पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

मॉडर्न जेल से कैदियों का मोेबाइल नेटवर्क:पेशी वीडियो कॉन्फ्रेंस से होने पर बदला तरीका, चक्कर खाकर गिर जाते हैं, इमरजेंसी रेफर होकर ला रहे मोबाइल

कपूरथला13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कैदी राकेश कुमार की चप्पल से मोबाइल मिला था।
  • चप्पल, बूट, पगड़ी, गुप्तांग में छिपाकर ले आते हैं मोबाइल, सख्ती बढ़ने पर भी केस कम नहीं हुए
  • जेल में मिले 4 लावारिस मोबाइल

जेल मंत्री और डीजीपी की सख्ती के दावों के बावजूद मॉडर्न जेल में मोबाइल लाने का धंधा थम नहीं रहा। अब कैदी और हवालातियों की मुलाकात व पेशी वीडियो कॉन्फ्रेंस से होने लगी है। सुरक्षा के लिए सीआरपीएफ लगा दी है। जेल में कैदियों को लेकर आने वाले पुलिस मुलाजिमों की काउंसलिंग भी होती है फिर भी जेल से मोबाइल मिल रहे हैं। कैदियों को चप्पल, बूट, पगड़ी और गुप्तांग में मोबाइल छिपाकर लाते कई बार पकड़ा है। जेल में मोबाइल कैसे पहुंच रहे है...? जेल प्रबंधन खुद हैरान है। अब जेल प्रबंधन ने 4 और मोबाइल पकड़े हैं। यह मोबाइल लावारिस मिले हैं। इन्हें जेल में किसने रखा, इसका अब तक पता नहीं चल पाया है। जेल के सहायक सुपरिंटेंडेंट तिरलोचन सिंह ने कहा कि वह जेल में अलग-अलग बैरेकों की तलाशी ले रहे थे। इस दौरान उन्हें 4 मोबाइल, 1 सिम और 1 चार्जर लावारिस मिला है। मोबाइल कौन लेकर आया है। जांच के लिए मामला पुलिस को दे दिया है। थाना कोतवाली पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है।

चप्पल के अंदर कैदी हवालाती जेल में आते समय चप्पल के नीचे मोबाइल छिपाकर ले आते हैं। मोबाइल का आधा हिस्सा एक चप्पल के नीचे होता है, बैटरी और बाकी हिस्सा दूसरी चप्पल में छिपा लेते हैं। यह चप्पल कहां से तैयार करवाते हैं। आज तक पता नहीं चल पाया है।

  • 9 अगस्त 2018 को कैदी राकेश कुमार चप्पल में मोबाइल छिपाकर ले आया था।
  • जनवरी 2020 में हवालाती माइकल मसीह की चप्पल से मोबाइल पकड़ा गया था।
  • 2 अक्टूबर 2020 में गैंगस्टर गुरप्रीत सिंह की चप्पल से मोबाइल पकड़ा था।
  • बूट के नीचे कैदी हवालाती जेल में आते समय बूट के नीचे मोबाइल छिपाकर ले आते है। बाहर से बूट आम बूट की तरह दिखता है लेकिन बीच में जगह खाली होती है। यह बूट कहां से तैयार करवाते हैं, आज तक पता नहीं चल पाया है।
  • साल 2019 में कैदी अमरजीत सिंह बूट में मोबाइल छिपाकर ले आया था।

गुप्तांंग में मोबाइल छिपाकर ले आते हैं

  • साल 2019 में कैदी गुप्तांग में मोबाइल छिपाकर ले आया था। तलाशी में डॉग पीटर व टॉमी ने उसे पकड़ा था।
  • पगड़ी में कैदी हवालाती तो बहुत कम मोबाइल पगड़ी और कपड़ों में लाते है। क्योंकि उसे आसानी से पकड़ लेते है। कैदी जेल में सुरक्षा में लगे गार्ड को पैसों के लालच से यह काम करवा लेते हैं।
  • साल 2017 में जेल में तैनात प्राइवेट कंपनी का गार्ड पगड़ी में नशा छिपाकर अंदर जाता पकड़ा था। डॉग पीटर और टॉमी उन्हें आगे नहीं जाने देते। मेडिकल जांच में मोबाइल पकड़े जाते हैं।

परिजनों की काउंसलिंग से भी नहीं हुआ सुधार

  • अब कैदी-हवालातियों की मुलाकात वीडियो कॉन्फ्रेंस से हो रही है। पहले मुलाकात के दौरान परिवार वाले मोबाइल, नशा आदि दे जाते थे।
  • हर दिन लगभग 250 कैदी पेशी पर जाते थे, अब कैदियों की पेशी वीडियो कॉन्फ्रेंस से होती है।
  • जेल में अब पेशी या बाहरी जेल से कैदी को लेकर आने वाले मुलाजिमों की काउंसलिंग भी हो रही है।
  • अब कैदी पेट में दर्द या चक्र आने से गिर जाना आदि के बहाने बना लेते हैं। कैदी को इमरजेंसी में रेफर करना पड़ता है। कैदी इलाज के दौरान गुप्त अंग या किसी और तरीके से मोबाइल ले आता है।

2500 कैदियों की सुरक्षा के लिए 250 मुलाजिम, अधिकारी तैनात
जेल में 2500 कैदी और हवालाती बंद हैं। सुरक्षा के लिए जेल में पंजाब पुलिस, होमगार्ड, पीएपी, प्राइवेट गार्ड और सीआरपीएफ समेत 250 मुलाजिम व अधिकारी तैनात है। फिर भी जेल में मोबाइल का आना बंद नहीं हो रहा है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आप अपनी दिनचर्या को संतुलित तथा व्यवस्थित बनाकर रखें, जिससे अधिकतर काम समय पर पूरे होते जाएंगे। विद्यार्थियों तथा युवाओं को इंटरव्यू व करियर संबंधी परीक्षा में सफलता की पूरी संभावना है। इसलिए...

और पढ़ें