राष्ट्रीय मुद्रीकरण पाइपलाइन योजना:रेलवे कर्मियों का प्रदर्शन, बोले-सार्वजनिक क्षेत्रों को निजी कंपनियों के हवाले कर रही केंद्र सरकार

कपूरथला2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • आरसीएफ के यूनियन नेता बोले-कर्मचारियों के हित में नहीं राष्ट्रीय मुद्रीकरण पाइपलाइन योजना

केंद्र सरकार ने राष्ट्रीय मुद्रीकरण पाइपलाइन योजना (एनएमपी) के तहत रेलवे, सड़क, नौवहन, बिजली, विमान, दूरसंचार, तेल और गैस, स्टेडियम, गोदाम जैसे क्षेत्रों को 25 साल के लिए प्राइवेट क्षेत्र के हवाले कर 6 लाख करोड़ एकत्रित करने का लक्ष्य लिया है। इंडियन रेलवे इंप्लाइज फेडरेशन के महासचिव कामरेड सर्बजीत सिंह ने कहा कि यह योजना नई पैकिंग में पुराना सामान है।

सरकार ने सार्वजनिक क्षेत्र का विनिवेश का जो मसौदा पिछले सालों में तैयार किया था वह जमीनी स्तर पर कर्मचारी संगठनों के जबरदस्त विरोध के चलते सफल नहीं हो पाया। सरकार अब एनएमपी योजना का लुभावना नाम देकर सार्वजनिक क्षेत्र को पूंजीपतियों के हवाले करने जा रही है। यह सब भारत देश को निजी कंपनियों के हवाले करने का षड्यंत्र है। इसके विरोध में किसानी संघर्ष से सीख लेते हुए सभी संगठनों को एकजुट होकर इनका मुंहतोड़ जवाब देना होगा।

खबरें और भी हैं...