त्योहार:8 जगहों पर मनाया जाएगा दशहरा, 60 फीट ऊंचे रावण का होगा दहन

कपूरथलाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मस्जिद चौक में रावण, कुंभकर्ण और मेघनाद के पुतले तैयार करते कारीगर। - Dainik Bhaskar
मस्जिद चौक में रावण, कुंभकर्ण और मेघनाद के पुतले तैयार करते कारीगर।
  • बदी पर नेकी की जीत की प्रतीक विजयदशमी आज धूमधाम से मनाई जाएगी, देवी तालाब में कैबिनेट मंत्री राणा गुरजीत सिंह पहुंचेंगे

कोरोना वायरस के डेढ़ वर्ष बाद फिर से त्योहारों का सीजन चहक उठा है। राखी के त्योहार से हुई शुरुआत के बाद अब बाजारों में रौनक लौट आई है। दुकानदार भी त्योहारों के सीजन को भुनाने के लिए पूरी तैयारियां कर चुके हैं। वहीं, बदी पर नेकी की जीत का प्रतीक दशहरा आज यानि शुक्रवार को जिले में धूमधाम से मनाया जा रहा है।

जिले में इस बार 8 जगहों पर राम लीला कमेटियों की ओर से दशहरा मनाया जा रहा है तथा दशानन का संहार करने के लिए कई स्थानों पर 40 से 60 फीट के पुतले बनाए गए हैं। कमेटियों का कहना है कि कोरोना के कारण पिछले वर्ष दशहरा सरकार की हिदायत को ध्यान में रखकर मनाया गया था।

गौरतलब है कि कोरोना के चलते पिछले वर्ष सरकार की गाइडलाइन के मुताबिक विजय दशमी मनाने के लिए 50 व्यक्तियों के एकत्रित होने की छूट दी गई है। शहर में केवल दो जगहों पर विजय दशमी पर्व मनाया गया था।
मस्जिद चौक में रावण, कुंभकर्ण और मेघनाद के 25 फीट के पुतले बने
कोरोना के चलते पिछले साल श्री प्रताप धर्म प्रचारिणी राम लीला दशहरा कमेटी की ओर से 89 साल की परंपरा को निभाते हुए हवन के बाद 20 फीट के रावण का पुतला बनाकर उसका दहन किया गया था। इस बार कमेटी की ओर से देवी तालाब में दशहरे का त्योहार मनाया जा रहा है।

60 फीट का रावण और दोनों भाई कुंभकरण व मेघनाद के 50 फीट के पुतले बनाए गए हैं। आकर्षण का केंद्र आतिशबाजी भी की जाएगी। कमेटी के सदस्यों ने बताया कि मेले में कैबिनेट मंत्री राणा गुरजीत सिंह विशेष तौर पर पहुंच रहे हैं।

मस्जिद चौक में इस बार राम लीला नहीं करवाई गई जबकि शुक्रवार को विजयदशमी का त्योहार मनाया जा रहा है। रामलीला ग्राउंड में रावण, कुंभकर्ण और मेघनाद के 25 फीट के पुतले बनाए गए हैं। जालंधर क्षेत्र से पुतले बनाने वाले अतर सिंह का कहना है कि अधिक लंबाई वाले पुतले कई बार दूसरे के लिए खतरा बन जाते हैं इसलिए जगह के हिसाब से ही पुतले बनाने चाहिए।

उन्होंने बताया कि वह कई वर्षों से पुतले बनाने का काम कर रहे हैं। इस बार लेबर महंगी होने के कारण केवल उनका खर्चा ही पूरा हुआ है। शेखूपुर में भी दशहरे का त्योहार धूमधाम से मनाया जा रहा है जबकि सुल्तानपुर लोधी में 2 जगह, नडाला, बेगोवाल और ढिलवां में भी दशहरा मनाया जाएगा।

खबरें और भी हैं...