सुखद:5 दिन से थर्मल प्लांटों से बिजली उत्पादन कम होने से लगाए जा रहे बिजली कट से राहत, बाजारों में दिखी चहलपहल

कपूरथलाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कन्या पूजन दिवस पर राहत, शहर में एक, गांवों में 2 घंटे पावर कट

5 दिन से पूरे राज्य में कोयले की कमी को लेकर थर्मल प्लांटों से बिजली उत्पादन कम होने से कट लगाए जा रहे हैं। जिनकी अवधि 9 घंटे तक भी रही है। बुधवार को पावरकाॅम की ओर से प्रस्तावित कटों में अचानक कटौती कर दी। कपूरथला व आसपास के गांवों में लगने वाले कट मात्र 3 घंटे कर दिए। ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि बुधवार को हिंदुओं की आस्था नवरात्र का त्योहार चल रहा है।

जिन क्षत्रों में सब्जियां, हरे चारे की बिजाई हुई, वहां पानी की अति आवश्यकता

बुधवार को कन्या पूजन दिवस पूरे उत्तरी भारत में धूमधाम से मनाया जाता है। पावरकाॅम ने शहर में मात्र शाम 5 से 6 बजे तथा रुरल एरिया में शषाम 4 से 6 बजे तक ही कट लगाया। गांवों में भी कट न लगने से भारी राहत मिली है। जिन क्षेत्रों में सब्जियों, हरे चारे की बिजाई हुई है, वहां सिंचाई के लिए पानी की अति अविश्यकता है। दिनभर घरेलू कार्यों में व्यस्त रहने वाली गृहणियं सविता, रजनी, कनिका, कंचन, अनीता, सुरभी, बिमला आदि ने बताया कि बुधवार को उन्होंने घरेलू काम जल्दी निपटा लिए कि कहीं पॉवर कट लग गया तो पानी की कमी आ जाएगी। वहीं, उन्हें कंजक पूजन में दिक्कत आएगी। सदर बाजार, सत्य नारायण, अमृत बाजार, कसेरिया बाजार दुकानदारों विजय कुमार, हरवंत सिंह सचदेवा, अमनदीप, जसविंदर सिंह, विक्की वालिया, रुबल आदि ने बताया कि पावर कट न लगने से उनका पूरा दिन दुकान में आने वाले ग्राहकों में व्यस्त रहने का कारण बीत गया। जनरेटरों की आवाज से जहां रिहायशी इलाकों में दिक्कत पैदा होती है। वहीं, शोर व धुएं से प्रदूषण बढ़ने का खतरा है। एसडीओ सिटी गुरनाम सिंह बाजवा ने बताया है कि पॉवर कट अचानक हेड ऑफिस से लगाए जाते हैं। उनकी सीमा पहले तय नहीं होती। किसी भी समय पावर कट में बढोतरी व कटौती संभव है। हेड ऑफिस से ही आगामी रणनीति बारे मौके पर ही पता चलता है।

खबरें और भी हैं...