सुखद, 2 दिन से नहीं हुई किसी की मौत:18 से 44 साल तक वालों को प्राइवेट अस्पतालों में लगेगी वैक्सीन, सीधे मैन्यूफैक्चरर से खरीदनी पड़ेगी

कपूरथला6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • सरकारी अस्पताल प्राइवेट से वापस मंगवा रहा वैक्सीन का स्टॉक

1 मई से 18 से 44 साल के लोगों को वैक्सीनेशन लगाने की अनुमति दी है। हकीकत यह है कि वैक्सीनेशन सरकारी अस्पतालों में नहीं ब्लकि प्राइवेट अस्पतालों में लगेगी। इसके लिए इन उम्र के लोगों को टीकाकरण की राशि अदा करनी पड़ेगी। दूसरी तरफ सरकारी अस्पताल अपने जिले के प्राइवेट अस्पतालों से वैक्सीनेशन भी वापस मंगवा रहे हैं, जो सरकारी अस्पताल से खरीदी गई थी। अब निजी अस्पताल सीधे मैन्यूफैक्चरर से वैक्सीन खरीदगे। प्राइवेट अस्पताल टीकाकरण की कीमत में इजाफा करेंगे। टीकाकरण अधिकारी डॉ. रणदीप सहोता का ने कहा कि सरकारी अस्पतालों से ली गई वैक्सीन निजी अस्पतालों से वापस मंगवाई जा रही है। अब निजी अस्पताल अपने तौर पर कोरोना वैक्सीन की खरीदारी कर सकेंगे।

सर्वर ठप होने से कुछ लोगों ही रजिस्ट्रेशन करवा पाए

बता दें कि कोविन, आरोग्य सेतु एप पर रजिस्ट्रेशन करवाने के लिए कहा है। बुधवार 28 अप्रैल शाम 4 बजे से यह रजिस्ट्रेशन शुरू होने का कहा गया था। शाम 4 बजे लोगों ने एप पर रजिस्ट्रेशन शुरू किया तो कोविन एप का सर्वर क्रैश हो गया। इससे 18 से 44 साल के अंतर्गत आने वाले कुछ लोग ही रजिस्ट्रेशन कर पाए। सेहत विभाग के सूत्रों के हवाले से मिली जानकारी के मुताबिक पूरे देश में 18 से 44 साल तक के लोगों की वैक्सीनेशन प्राइवेट अस्पतालों में होगी।

वैक्सीनेशन का रेट भी तय किया जा चुका है। पहले जहां प्राइवेट अस्पतालों में वैक्सीन 250 रुपए में लगाई जाती थी, अब देखना होगा कि रेट में कितना इजाफा होगा डायरेक्टर हेल्थ एंड फैमिली वेलफेयर पंजाब की अरो से जारी किए गए पत्र में कहा गया है कि निजी अस्पताल अब सरकारी अस्पतालों की बजाए सीधे मेन्यूफेक्चरर से वैक्सीन की खरीदारी करेंगे। निजी अस्पतालों में पड़ी हुई वैक्सीन के स्टॉक को 30 अप्रैल की शाम तक सेहत विभाग वापस मंगवा रहे हैं।

अभी तक पता नहीं, कहां से मंगवानी है वैक्सीन: प्रबंधक

इधर, निजी अस्पताल के प्रबंधकों ने बताया कि पहले उन्हें वैक्सीन सरकारी अस्पतालों से उपलब्ध होती थी। नई पॉलिसी के तहत 1 मई को 18 से 44 साल के लोगों को कोरोना वैक्सीन लगाने की सरकार बात कर रही है। अब तक उन्हें नहीं पता कि वैक्सीन किस कंपनी से मंगवानी है। किस नाम से चेक या आरटीजीएस करनी है।

खबरें और भी हैं...