जागरूकता अभियान:पर्यावरण बचाओ, पराली न जलाओ का दिया संदेश

माहिलपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कमेटियों का गठन कर लोगों को पराली को आग न लगाने के लिए जागरूक किया जाए

पराली को आग लगाने से जहां कार्बनडाइऑक्साइड, कार्बन मोनोऑक्साइड, मैथिन आदि जहरीली गैसें पैदा हो रही हैं, जिससे ग्लोबल वार्मिंग को बढ़ावा मिल रहा है। यह बात पंजाब यूनिवर्सिटी लुधियाना तहत कृषि विज्ञान केन्द्र बाहोवाल में डिप्टी डायरेक्टर डॉ मनिंदर सिंह बौंस ने कही। उन्होंने कहा पराली को आग लगने से जमीन में कुदरती तत्व खत्म हो जाते हैं, जिनको पूरा करने के लिए हम जरूरत से ज्यादा फर्टिलाइजर्स एवं दवाओं का प्रयोग कर रहे हैं जिससे फसल के पोषण के लिए पैसों के नुकसान के साथ पैदा हुई फसल में जहरीले तत्व भी मिले हैं।

इससे बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। उन्होंने कहा कि अगर पराली को आग लगाने पर काबू न पाया गया तो आने वाला समय बेहद खतरनाक हो सकता है। उन्होंने पंचायतों को अपील की पर्यावरण को प्रदूषित होने से बचाने के लिए गांवों में पड़े लिखे युवकों द्वारा कमेटियों का गठन कर लोगों को पराली को आग न लगाने के लिए जागरूक किया जाए।

खबरें और भी हैं...