पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पंजाब सरकार के विरुद्ध नारेबाजी की:सरकारी बस कर्मचारियों ने कैबिनेट मंत्री की कोठी का किया घेराव, चन्नी ने बाहर आकर मांगपत्र लिया

मोरिंडा6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • मंत्री ने कहा- मांगों को पहल के आधार पर कैबिनेट की मीटिंग में रखेंगे

पंजाब रोडवेज, पनबस और पीआरटीसी के समूह कच्चे मुलाजिमों की ओर से पक्का करने की मांग को लेकर रविवार सुबह कैबिनेट मंत्री पंजाब चरणजीत सिंह चन्नी की मोरिंडा स्थित कोठी का घेराव किया गया और पंजाब सरकार के विरुद्ध नारेबाजी की गई। एक्शन कमेटी की अगुवाई में पंजाब रोडवेज, पनबस और पीआरटीसी के वर्कर अनाज मंडी मोरिंडा में इकट्ठे हुए और मार्च करते हुए मंत्री चरणजीत सिंह चन्नी की कोठी पहुंचे।

प्रदर्शनकारियों ने कोठी के मेन गेट के आगे बैठकर नारेबाजी की। इस संबंध में जानकारी मिलते ही डीएसपी श्री चमकौर साहिब सुखजीत सिंह विर्क, डीएसपी अनिल कुमार और एसएचओ सिटी मोरिंडा विजय कुमार, एसएचओ सदर बलजिंदर कौर सैनी भारी पुलिस फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे और स्थिति का जायजा लिया। इस मौके पर कैबिनेट मंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने कोठी से बाहर आकर प्रदर्शनकारियों की मांगों का समर्थन करते हुए कहा कि वह उनको पक्का करवाने के लिए कैबिनेट की मीटिंग में पहल के आधार पर यह मामला रखेंगे।

उपरांत पंजाब रोडवेज, पनबस और पीआरटीसी कॉन्ट्रैक्टर वर्कर यूनियन ने सूबा अध्यक्ष रेशम सिंह गिल की अगुवाई में मंत्री को मांगपत्र दिया। इस उपरांत मुलाजिमों ने मंत्री चरणजीत सिंह चन्नी की कोठी का घेराव समाप्त किया। इस समय यूनियन के चेयरमैन इंद्रजीत सिंह, अध्यक्ष कुलवंत सिंह, उपाध्यक्ष कुलविंदर सिंह, जर्नल सचिव जतिंदर सिंह, हरदीप सिंह, अशोक कुमार, सुनील कुमार, अमरजीत सिंह, गुरप्रीत सिंह, पवित्र सिंह, गुरबाज सिंह, जसपाल शर्मा, सहजपाल सिंह, हरकेश आदि उपस्थित थे। यूनियन के सदस्यों द्वारा 3 घंटे तक प्रदर्शन किया गया। यूनियन के सदस्यों ने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा जो कमेटी बनाई गई थी उसने साढ़े 4 साल कुछ नहीं किया। अभी अगर प्रदेश सरकार ने मांगें म मानी गई तो वह 28, 29, 30 तारीख को फिर से हड़ताल करेंगे और मोती महल का घेराव करेंगे।

खबरें और भी हैं...