पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अनिश्चितकालीन हड़ताल शुरू:पनबस की 95 बसें बंद, यात्री घंटों रहे परेशान, मुलाजिम पटियाला में आज करेंगे प्रदर्शन

नवांशहर14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

पंजाब रोडवेज/पनबस कॉन्ट्रैक्ट वर्कर यूनियन पंजाब व पीआरटीसी के आह्वान पर ट्रांसपोर्ट विभाग के कच्चे मुलाजिमों ने सोमवार को मांगों को लेकर अनिश्चितकालीन हड़ताल शुरू कर दी है। हड़ताल के पहले दिन नवांशहर डिपो के मुलाजिमों ने डिपो के आगे धरना देकर प्रदेश सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। इस दौरान पनबस की 95 बसें बंद रहीं। यात्री परेशान होते रहे। यूनियन ने सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि यदि उनकी मांगों को जल्द न पूरा किया तो अगला संघर्ष किसी भी शहर में जाम करके संघर्ष को तेज करेंगे।

ये हैं मुख्य मांगें

सरकारी बसों की संख्या 10 हजार की जाए। पंजाब रोडवेज/पनबस व पीआरटीसी में काम करते कच्चे मुलाजिमों को पक्का किया जाए। बराबर काम बराबर वेतन मिले। अवैध शर्तें लगाकर निकाले गए सभी वर्करों को बिना शर्त के दोबारा बहाल किया जाए। रिपाेर्टाेंकी कंडीशनें रद्द की जाएं। कारज मुक्त बसें राेडवेज में स्टाफ समेत मर्ज की जाएं।

अधिकतर सरकारी बसें कंडम हो चुकी हैं। इनकी जगह नई बसें डाली जाएं, ताकि कोई परेशानी न हो।

सरकार को सत्ता में आए बीते साढ़े चार साल मगर हर वादा अधूरा

प्रधान हरदीप सिंह काहलों ने कहा कि यूनियन की ओरसे 7 सितंबर को होने वाले सेशन की ओर रोष मार्च निकाला जाएगा। मंगलवार को पटियाला में मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह की कोठी के आगे प्रदर्शन किया जाएगा। यदि सरकार की ओर से मांगें न मानीं गईं तो पटियाला शहर को जाम करके रोष प्रदर्शन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि कैप्टन अमरिंदर सिंह ने सत्ता हासिल करने से पहले घर-घर नौकरी, ट्रांसपोर्ट माफिया खत्म करने और समूह विभागों के ठेका मुलाजिमों को पक्का करने की मांग को पहली कैबिनेट मीटिंग में हल करने का वादा किया था, लेकिन सरकार को सत्ता में आए हुए साढ़े चार वर्ष से अधिक का समय हो गया है, लेकिन सूबा सरकार अपने हर एक वादे पर टालमटोल की नीति अपना रही है।

खबरें और भी हैं...