दशहरा पर्व आज:2 साल बाद फिर 5 से 55 फुट ऊंचा हुआ रावण का पुतला

नवांशहरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आईटीआई मैदान में तैयार रावण का पुतला। - Dainik Bhaskar
आईटीआई मैदान में तैयार रावण का पुतला।
  • कोरोना काल में सिमट गई थी रावण, कुंभकर्ण व मेघनाद के पुतलों की ऊंचाई

कोरोना संकट के दो साल बाद दशहरा मैदान में एक बार फिर रावण की हंसी की गूंज सुनाई देगी। जिस प्रकार कोरोना ने लोगों के जीवन का प्रभावित किया था, इसका असर पर्वों पर देखने को मिला था। इस साल कोविड संक्रमण का दर कम होने से आयोजन समिति ने दशहरा मनाने का फैसला लिया है।

शुक्रवार को दशहरा पर्व कोविड गाइडलाइन का पालन करते हुए स्थानीय चंडीगढ़ रोड पर स्थित आईटीआई मैदान में विजयदशमी का पर्व श्रद्धा व धूमधाम के साथ मनाया जाएगा। रावण, कुंभकर्ण तथा मेघनाद के बुत मैदान में खड़े कर दिए गए हैं।

इस संबंध में जानकारी देते हुए दशहरा उत्सव कमेटी के सदस्य डॉ. हरमेश पुरी ने बताया कि मैदान में खड़े किए गए रावण परिवार के पुतलों में रावण का पुतला 55 फीट, कुंभकर्ण और मेघनाद का पुतला 40-40 फीट का है। दशहरा मेले की सभी तैयारियां मुकमल कर ली गई हैं। इस दौरान शहर के कई गणमान्य विशेष तौर पर मौजूद रहेंगे। शाम को सूर्यास्त पर पुतलों को अग्नि दिखाई जाएगी।

कमेटी सदस्यों ने क्षेत्रवासियों से अपील की है कि वे कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करते हुए मेले में भाग लें। इसके अलावा इस बार आतिशबाजी देखने लायक होगी। उन्होंने बताया कि पिछले साल कोरोना के कारण रावण, कुंभकरण व मेघनाध के पुतले 5-5 फुट ऊंचे बनाए गए थे और सिर्फ रस्मी तौर पर ही दशहरा मनाया गया था, लेकिन इस बार कोरोना महामारी से बचाव के कारण दशहरा पर्व पूरे हर्षोल्लास के साथ मनाया जा रहा है।

खबरें और भी हैं...