पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

वीकेंड बिजली कटों से राहत:11 फीडरों में बांटा शहर, 10 चालू, अब पूरी सिटी की बिजली एक साथ नहीं होगी गुल, फॉल्ट होंगे कम

नवांशहर9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • 66 केवी स्टेशन से बनाए 5 फीडर, बिजली फॉल्ट पर अब कटेगी सिर्फ प्रभावित इलाकों की लाइट

एपीडीआरपी स्कीम (एक्सलरेटिड पावर डेवलपमेंट एंड रिफार्म प्रोग्राम) के तहत शहर में बिजली के नए मीटर लगाने व तारें बदलने के प्रोजेक्ट के बाद अब नए बने 66 केवी स्टेशन से बनाए जाने वाले नए फीडरों का काम भी अंतिम चरण में पहुंच गया है। बिजली विभाग की ओर से 11 में से अब तक शहर को 10 फीडरों में बांटने का काम पूरा किया जा चुका है और बरनाला रोड के अंतिम फीडर को अलग करने का काम भी तेजी पर है। शहर की 50 हजार आबादी को इसका फायदा मिलेगा।

फीडरों की संख्या बढ़ने से शहर में जहां बिजली फॉल्टों की संख्या कम होने की उम्मीद है, वहीं एक इलाके में फॉल्ट आने पर अब एक चौथाई शहर को बंद करने की जरूरत नहीं पड़ेगी। बता दें कि शहर में पहले 132 केवी सब-स्टेशन से 6 फीडर चलते थे। शहर में बिजली विभाग की ओर से एपीडीआरपी स्कीम के तहत पुराने बिजली मीटरों को बदला गया और इन्हें घरों के बाहर लगवाया गया। यही नहीं तारें व ट्रांसफार्मर भी बदले गए। इसके बाद करीब डेढ़ साल पहले 66 केवी स्टेशन बनाया गया।

अब ये पूरी प्रक्रिया अंतिम चरण में है और 66 केवी स्टेशन से फीडरों को अलग करने का काम भी अंतिम चरण में पहुंच गया है। विभाग की ओर से अब इसके साथ 66 केवी सब स्टेशन बना दिया गया और शहर के फीडरों की संख्या भी बढ़ा कर 11 कर दी गई। शहर में कम फीडर होने के कारण शहर की बिजली फॉल्ट आने पर पूरे शहर की बिजली काटनी पड़ती थी। अब यदि कोई फॉल्ट आए तो उसी इलाके की बिजली काटी जाएगी, जिसमें फॉल्ट है। बाकी शहर की बिजली पर कोई असर नहीं पड़ेगा।

जानिए किस फीडर से काटकर बनाया नया फीडर

पुराने रेलवे रोड फीडर को अब 3 फीडरों में बांट दिया गया है। जिसमें से एक रेलवे रोड, दूसरा स्लोह रोड व तीसरा राहों रोड फीडर बनाया गया है। इसी तरह घास मंडी फीडर के अब 2 फीडर बनाए गए। जिसमें एक घास मंडी फीडर और दूसरा दाना मंडी फीडर बनाया गया है। इसी तरह चंडीगढ़ रोड फीडर से भी 1 नया फीडर बरनाला रोड फीडर बनाया गया है।

शहरी फीडर नंबर 2 को भी दो फीडरों में बांटते हुए अब शहरी फीडर नंबर-2 व बेगमपुर रोड फीडर बनाए गए हैं। पुराने फीडरों में से शहरी फीडर नंबर-1 तथा फोकल प्वाइंट फीडर में बदलाव नहीं किए गए हैं। क्योंकि शहरी फीडर नंबर-1 इतना बढ़ा नहीं है। दूसरी और फोकल प्वाइंट फीडर पर अधिकतर फैक्टरियां चलती हैं।

गांधी चौक ट्रांसफार्मर का नहीं हुआ हल

शहर में की गई ट्रांसफार्मर बदलने की प्रक्रिया के दौरान गांधी चौक में लगाया जाने वाला ट्रांसफार्मर लोगों द्वारा अड़चन डाले जाने के कारण रह गया था। लेकिन अभी तक चालू नहीं हो पाया है। क्योंकि गांधी चौक के इलाके में लो-वोल्टेज की समस्या के कारण नया ट्रांसफार्मर रखा जाना जरूरी था, लेकिन लोगों के विरोध पर विभाग उनसे बात करने या फिर कानूनी कार्रवाई करने की बजाए चुप बैठा है। विभाग की ओर से न तो इन लोगों को समझाया गया और न ही इस मामले में पुलिस या अदालत के जरिए ट्रांसफार्मर रखवाया गया।

सिर्फ बरनाला रोड फीडर का काम बाकी

एसडीओ गुरबख्श राम ने बताया कि दस फीडरों का काम पूरा हो चुका है और अब सिर्फ बरनाला रोड फीडर का काम बाकी है। इसके अलावा सिविल अस्पताल के लिए अलग फीडर बनाया जा रहा है। इस फीडर का काम भी दिसंबर तक पूरा होने वाला है। जिसके बाद शनिवार व रविवार को लगने वाले कटों से निजात मिलेगी।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- पिछले रुके हुए और अटके हुए काम पूरा करने का उत्तम समय है। चतुराई और विवेक से काम लेना स्थितियों को आपके पक्ष में करेगा। साथ ही संतान के करियर और शिक्षा से संबंधित किसी चिंता का भी निवारण होगा...

और पढ़ें