पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

टीके के लिए जागरुकता बढ़ी:तीन दिन बाद आई कोविशील्ड एक दिन में ही खत्म, सप्लाई न मिली तो आज नहीं लगेगी डोज

नवांशहर2 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना महामारी दुनिया भर के लिए बड़ी दहशत थी और अब भी है, इसलिए अब भी कोरोना सा‌वधानियों का पालन करने पर जोर दिया जाता है। मगर, जिले में खासकर जिला मुख्यालय में टीकाकरण केंद्रों पर हालात कुछ अलग ही नजर आ रहे हैं, लोगों में कोरोना का डर तो है, पर इसके बावजूद कोरोना सावधानियों के प्रति न तो लोग जागरूक नजर आ रहे हैं और न ही स्वास्थ्य विभाग द्वारा ऐसे कदम उठाए जा रहे हैं कि लोग टीकाकरण केंद्रों पर सोशल डिस्टेंसिंग में रहें। बुधवार को तीन दिन बाद जिले में पहुंची कोविडशील्ड एक ही दिन में खत्म हाे गई, क्योंकि टीकाकरण केंद्रों पर लोगों की भारी भीड़ जुट रही है, जिसके चलते कोरोना प्रोटोकॉल का पालन भी नहीं हो रहा।

अब जिले में कोवैक्सीन की ही 200 डोज बाकी हैं तथा ऐसे में अगर सप्लाई न मिली तो वीरवार को नागा संभव हो सकता है। उधर, लोगों का कहना है कि प्रशासन को टीकाकरण केंद्रों की संख्या बढ़ानी चाहिए और टीके लगाने के लिए कूपन बांटने चाहिएं, इसके साथ-साथ केंद्र में टीकाकरण टीमों की संख्या में भी बढ़ोतरी करनी चाहिए, ताकि लोगों को परेशानी का सामना न करना पड़े।

टीकाकरण केंद्रों पर सुबह 7 बजे से लग रहा लोगों का तांता
अधिकतर टीकाकरण केंद्रों पर हालात यह रहे कि वैक्सीन लगाने का काम भले ही लेट शुरू होता है, मगर केंद्रों पर लोगों का तांता सुबह सात-साढे़ सात बजे से लगना शुरू हो जाता है। मगर न तो यहां कोई कूपन सिस्टम का ही उचित प्रबंध होता है और न ही केंद्र पर लोगों को कोई तय समय दिया जाता है कि कौन से ग्रुप में उनकी बारी कितने बजे आएगी।

इसके चलते लोग सुबह से ही अपनी बारी का इंतजार करने लगते हैं और वैक्सीन आने पर कतारें भी टूट जाती हैं, जिस वजह से यहां कहीं भी सोशल डिस्टेंसिंग नहीं रहती। इस प्रकार से टीकाकरण केंद्रों पर कोरोना प्रोटोकॉल का पालन नहीं हो रहा, जिसके लिए कहीं न कहीं विभाग ही जिम्मेदार है।

जिलेभर में बुधवार को 5995 लोगों को लगी वैक्सीन की डोज
बुधवार को जिले में सिर्फ 5995 लाभार्थियों को वैक्सीन की डोज दी गई है। इसके चलते जिले में वैक्सीन की डोज का आंकड़ा 2 लाख 19 हजार 539 तक पहुंच गया है। जिले की आबादी करीब 6 लाख 15 हजार मानते हुए पहली डोज 29 % लोगों को व दूसरी डोज सिर्फ 7 % लोगों को ही दी जा सकी है।

जानकारी देते हुए जिला टीकाकरण अधिकारी डाॅ. बलविंदर ने बताया कि कोविशील्ड जितनी आई थी लगभग उतनी लगाई जा चुकी है। अब जिले में कोवैक्सीन की करीब 200 डोज ही बाकी हँ। हालांकि उन्होंने कहा कि केंद्रों पर अधिक लोग न इकट्‌ठे हों या सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखें इसके लिए आने वाले दिनों में उपयुक्त इंतजाम किए जाएंगे।

उन्होंने बताया कि स्वास्थ्य विभाग द्वारा जिले में अब 10 केंद्रों पर टीकाकरण अभियान चलाया जा रहा है। अब तक हेल्थ केयर वर्करों को कुल 5734 डोज दी जा चुकी है। इसी तरह 86 फ्रंट लाइन वर्करों को वैक्सीन की डोज दी गई, जिसके चलते फ्रंट लाइन वर्करों को वैक्सीन की कुल 31457 डोज दी गई है।

18 से 44 साल उम्र वर्ग के 2528 लाभार्थियों को डोज दी गई है, जिसके चलते अब तक कुल 42971 लाभार्थियों को वैक्सीन की डोज ही दी गई है। 45 से 59 साल उम्र वर्ग के 2053 लोगों को डोज दी जा चुकी है, जिसके चलते डोज लेने वाले 79550 डोज दी जा चुकी है। 60 साल से ऊपर की उम्र के 1328 लाभार्थियों को वैक्सीन की डोज दी गई है, जिसके तहत 65822 लाभार्थियों को डोज दी जा चुकी है।

खबरें और भी हैं...