अन्न पर संकट:खरीद के बावजूद मंडियों में लिफ्टिंग न होने से 1.15 लाख मीट्रिक टन गेहूं खुले में पड़ा, अगले 2 दिनों में बारिश के आसार

नवांशहर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
तस्वीर नवांशहर अनाज मंडी की है। यहां पर लिफ्टिंग न होने से खुले आसमान के नीचे 1.15 लाख एमटी गेहूं पड़ा है। मौसम विभाग के अनुसार बारिश की भी संभावना है। - Dainik Bhaskar
तस्वीर नवांशहर अनाज मंडी की है। यहां पर लिफ्टिंग न होने से खुले आसमान के नीचे 1.15 लाख एमटी गेहूं पड़ा है। मौसम विभाग के अनुसार बारिश की भी संभावना है।
  • प्रशासन के पास जगह की कमी, लिफ्टिंग में हो रही देरी, किसान परेशान

जिले में गेहूं खरीद अंतिम दौर में पहुंच गई है और आमद की रफ्तार से लिफ्टिंग न होने के चलते मंडियों में गेहूं के अंबार लग गए हैं, खरीदे गए गेहूं में से अभी भी 1 लाख 15 हजार (एमटी) मीट्रिक टन गेहूं की लिफ्टिंग नहीं हो पाई है। इससे खरीद के अनुसार करीब 52 फीसदी गेहूं खुले में ही पड़ा है। हालात यह हैं कि जिले की तीनों मार्केट कमेटियों नवांशहर, बंगा व बलाचौर में करीब 2 लाख 21 हजार 341 एमटी गेहूं की खरीद की गई है।

जबकि कुल खरीद में से 350 करोड़ रुपए की अदायगी ऑनलाइन किसानों को दी जा चुकी है। जिला मंडी अधिकारी स्वर्ण सिंह ने बताया कि मंडियों में अभी तक 2 लाख 21 हजार 611 एमटी गेहूं की आमद हुई है। इसके तहत पनग्रेन ने 63 हजार 933 एमटी, एफसीआई 29 हजार 087 एमटी, मार्कफैड ने 51 हजार 14 एमटी, पनसप ने 50 हजार 825 एमटी, वेयरहाउस कार्पोरेशन ने 26 हजार 482 एमटी गेहूं की खरीद की गई है। जिला मंडी अधिकारी ने बताया कि पेमेंट किसानों के खातों में सीधे ही डाली जा रही है। उन्होंने बताया कि पनग्रेन की ओर से अभी तक 106.79 करोड़, मार्कफैड की ओर से 83.33 करोड़, पनसप ने 83.12 करोड़, पंजाब स्टेट वेयरहाउस कार्पोरेशन ने 45.56 और एफसीआई ने 30.89 करोड़ रुपए की अदायगी की गई है।

जिले में अब तक 2.21 लाख मीट्रिक टन की खरीद, किसानों को करीब 350 करोड़ की अदायगी

आमद में तेजी से स्टोरेज की हो गई थी कमी : अधिकारी

मंडियों में गेहूं की आमद में एकदम तेजी आने से प्रशासन के पास स्टोरेज की कमी हो गई थी, हालांकि अब स्टोरेज के लिए जगह बनाई जा रही है। अब लिफ्टिंग में भी तेजी लाई जाएगी।

-स्वर्ण सिंह, जिला मंडी अधिकारी।

दो दिन में बारिश होने की संभावना, ऐसे में गेहूं को नुकसान पहुंचने का खतरा

मौसम का मिजाज लगातार बदल रहा है। हालात यह हैं कि खरीद सीजन के दौरान दो बार पहले भी बारिश हो चुकी है। जबकि अब शुक्रवार और शनिवार को भी बारिश होने के आसार हैं। इसके चलते अगर मंडियों में खुले में पड़ी गेहूं पर बारिश हो जाती है तो दाने की क्वालिटी पर असर पड़ने की आशंका है। इसके चलते आढ़तियों ने मांग की कि मंडियों में जल्द लिफ्टिंग करवाई जाए।

खबरें और भी हैं...