रोक लगाई:किसान पराली को जलाएं नहीं, नवीनतम मशीनों के माध्यम से करें सही निपटारा

नवांशहर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • डीसी ने बिना एसएमएस कंबाइन हार्वेस्टर के प्रयोग पर लगाई रोक

डिप्टी कमिश्नर डाॅ. शेना अग्रवाल ने कहा है कि जिले के किसान धान की पराली को आग न लगाएं, बल्कि इन-सीटू तथा एक्स सीटू मैनेजमैंट के साथ पराली की संभाल करें। पंजाब भर में धान की कटाई शुरू हो चुकी है, जिसके लिए कंबाइन हार्वेस्टर सहित अन्य रिवायती ढंग प्रयोग किए जाते हैं, इसलिए नवीनतम मशीनों के माध्यम से फसली अवशेष को खेतों में मिक्स करके या खेतों से बाहर निकालकर सही ढंग से निपटारा किया जा सकता है। इससे जहां वातावरण को दूषित होने से बचाया जा सकेगा, वहीं धरती की उपजाऊ शक्ति भी बरकरार रखी जा सकती है। उन्होंने बिना सुपर एसएमएस वाली कंबाइन हार्वेस्टर पर भी मुकम्मल रोक लगा दी है।

उन्होंने बताया कि जिले में धान की पराली/फसली अवशेष को आग न लगाने के बारे में किसानों तथा आम लोगों को जागरूक करने के लिए मुहिम शुरू की है। इसके तहत समूह ब्लाॅकों के गांवों में किसान सिखलाई कैंप लगाए जा रहे हैं। सरकार द्वारा मिशन कामयाब किसान खुशहाल पंजाब के तहत पराली का सही निपटारा करने वाली मशीनें सब्सिडी पर मुहैया करवाने के लिए अब तक कुल 359 मशीनों को खरीदने की मंजूरी दी गई है, ताकि पराली की संभाल करके वातावरण को दूषित होने से बचाया जा सके।

खबरें और भी हैं...