पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

खेल-खेल में सीखेंगे मैथ:211 स्कूलों में होंगे गणित मेले, ‌3.70 लाख रुपए जारी

नवांशहर9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • छात्रों के मन से मैथ का डर दूर करने के लिए गणित मेला करवाएगा शिक्षा विभाग

छात्रों के मन से जटिल विषय माने जाने वाले गणित का डर दूर करने के लिए पंजाब स्कूल शिक्षा विभाग सरकारी स्कूलों में गणित मेला लगाने जा रहा है। इसके लिए बकायदा फंड मुहैया करवाया गया है। खेल-खेल में बच्चे गणित विषय की बारीकियों को आसानी से समझें व उनमें गणित विषय के प्रति दिलचस्पी बढ़े, इसे ध्यान में रखकर शिक्षा विभाग ने जहां जिले के कुल 211 सरकारी स्कूलों सहित पंजाब के कुल 22 जिलों के कुल 8019 सरकारी मिडल, हाई व सीनियर सेकेंडरी स्कूलों के लिए 1 करोड़ 12 लाख 52 हजार रुपए का फंड जारी किया है।

नवांशहर जिले के 211 सरकारी स्कूलों के लिए 3 लाख 69 हजार रुपए का फंड शिक्षा विभाग की तरफ से जारी हुआ है। 4 दिवसीय प्री मेला 2 से 5 अगस्त के मध्य होगा, जिसमें अध्यापकों की तरफ से छात्रों को माॅडल व क्रियाएं ऑनलाइन तैयार करवाई जाएंगी। इसके बाद मुख्य गणित मेले में विद्यार्थियों की तरफ से अपने बनाए गए माॅडल, एक्टिविटीज को प्रदर्शित करते हुए वीडियो बनाई जाएंगी, जो उन्हें अपने-अपने अध्यापकों की भेजनी होंगी।

प्री गणित मेला 2 से 5 अगस्त और मुख्य मेला 6 से 10 अगस्त को होगा
छात्रों में अंकों का डर दूर कर उन्हें खेल के जरिए रोचक बनाने के लिए सरकारी स्कूलों में गणित मेले लगेंगे। ऐसा इसलिए किया जा रहा है, ताकि बच्चे गणित विषय में अंकों की गणना से डरें नहीं, बल्कि उसे रोचक तरीकों से सीखें और समझें। यह मेले 2 चरणों में होंगे। प्री गणित मेला 2 से 5 अगस्त और मुख्य मेला 6 से 10 अगस्त तक चलेगा।
गणित मेले लगाने की गाइडलाइन की जारी
जिला गणित सुपरवाइजर जतिंदर कुमार ने बताया कि पंजाब स्कूल शिक्षा विभाग की तरफ से जारी गाइडलाइन जिले के सभी स्कूलों को भेज दी गई है। इस योजना के तहत नवांशहर जिले के 106 मिडिल को 1500 तथा 105 हाई व सीनियर सेकेंडरी को 2 हजार रुपए प्रति स्कूल के हिसाब से जिले के कुल 211 स्कूलों के लिए 3.69 लाख रुपए का फंड स्कूलों को मुहैया करवाया गया है।
6वीं और 10वीं के विद्यार्थियों के लिए लगेंगे ये मेले
शिक्षा विभाग द्वारा सभी जिला शिक्षा अधिकारियों व स्कूल मुखी को गाइडलाइन भेज कहा गया है कि स्कूल मुखी अपने नेतृत्व में इसकी प्लानिंग करें। संबंधित शिक्षकों की ड्यूटी लगाएं। यह गणित मेले छठी से 10वीं के विद्यार्थियों के लिए आयोजित करवाए जा रहे हैं। हर स्कूल से 2 या 3 एंट्रीज बेस्ट चुनकर उनका मूल्यांकन करना होगा।

खबरें और भी हैं...