पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

स्कूल अनलॉक:माता-पिता की सहमति से स्कूल जाने की आज्ञा, खिलाड़ियों के लिए स्वीमिंग पूल 15 के बाद खोलने की दी गई इजाजत

नवांशहर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • शर्तों के तहत आज से 9वीं से 12वीं तक के शुरू होंगे स्कूल और कोचिंग संस्थान

जिला प्रशासन की ओर से कोविड-19 के मद्देनजर 15 अक्टूबर से जिले में कुछ और छूट दी हैं, जिनके तहत शर्तों के साथ 9वीं से 12वीं तक के विद्यार्थियों के लिए स्कूल भी खोले जा सकते हैं। डिप्टी कमिश्नर डॉ. शीना अग्रवाल ने जारी आदेशों में बताया कि 15 अक्तूबर 2020 के बाद कंटेनमेंट जोनों से बाहर के क्षेत्रों में अधिक गतिविधियों को इजाजत देने का फैसला किया गया है।

कुछ शर्तों जैसे ऑनलाइन/डिस्टेंस एजुकेशन को प्राथमिकता देने और उत्साहित करने के अंतर्गत स्कूल और कोचिंग संस्था खोलने का फैसला लिया गया है। सिर्फ 9वीं से 12वीं क्लास के विद्यार्थियों को अपने माता-पिता की सहमति से स्कूल/संस्था में जाने की आज्ञा दी गई है। लेकिन इसमें बच्चों की हाजरी को लाजमी नहीं बनाया जा सकता तथा बच्चो के स्कूल में आना पूरी तरह माता-पिता की सहमति पर निर्भर होना चाहिए।

जिन स्कूलों को 15 अक्टूबर के बाद खोलने की इजाजत दी जा रही है। उनको पंजाब के स्वास्थ्य एवं परिवार भलाई विभाग के साथ सलाह मशवरे के जरिए स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा जारी की जाने वाली एसओपीज की लाजिमी तौर पर पालना करनी होगी। प्रयोगशालाओं/प्रयोगात्मिक कार्यों की जरूरत के अनुसार सिर्फ खोज विद्वानों (पीएचडी) और विज्ञान और प्रौद्योगिकी स्ट्रीम के पोस्ट-ग्रेजुएट विद्यार्थियों के लिए उच्च शैक्षणिक संस्थान 15 अक्टूबर के बाद खोलने की आज्ञा दी गई है।

इसके अलावा राज्य के अन्य उच्च शिक्षा संस्थानों जैसे राज्य की यूनिवर्सिटियों और प्राइवेट यूनिवर्सिटियों को भी 15 अक्टूबर से प्रयोगशालाओं /प्रयोगात्मिक जरूरतों के अनुसार केवल खोज विद्वानों (पीएचडी) और विज्ञान और प्रौद्योगिकी स्ट्रीम के पोस्ट-ग्रजुएट विद्यार्थियों के लिए खोलने की आज्ञा दी जाती है।

उन्होंने बताया कि खिलाड़ियों के लिए इस्तेमाल किए जाते तैराकी पूल को भारत सरकार और खेल मंत्रालय द्वारा जारी किए जाने वाले एसओपीज के अनुसार 15 अक्टूबर के बाद खोलने की इजाजत दी गई है।

सांस्कृतिक, धार्मिक व राजनीतिक समागमों में बढ़ सकती है संख्या

कंटेनमेंट जोनों से बाहर सामाजिक/अकादमिक/ खेल/मनोरंजन/सांस्कृतिक/धार्मिक/राजनीतिक समागम, जिनमें विवाह और संस्कार और अन्य समागम शामिल हैं, के लिए पहले ही 100 व्यक्तियों की सीमा के साथ आज्ञा दी गई है।

कंटोनमेंट जोनों से बाहर इस तरह के भीड़ के लिए 100 व्यक्तियों की निर्धारित सीमा से अधिक भीड़ करने की आज्ञा कुछ शर्तों के अधीन 15 अक्टूबर से होगी जैसे कि बंद स्थानों में 200 व्यक्तियों की सीमा के साथ हाल की अधिक से अधिक 50 प्रतिशत समर्थता की आज्ञा है।

मास्क पहनना, सामाजिक दूरी बना कर रखना, थर्मल स्कैनिंग की व्यवस्था और सैनिटाइजर का प्रयोग लाजिमी होगा। उन्होंने बताया कि खुले स्थानों, जमीन/जगह के आकार को ध्यान में रखते जिला मजिस्ट्रेट की आज्ञा और सामाजिक दूरी बनाए रखने, लाजिमी मास्क पहनने, थर्मल स्कैनिंग की व्यवस्था और सैनिटाइजर का प्रयोग के नियम की सख्ती के साथ पालना के साथ इस तरह की भीड़ की आज्ञा होगी।

खबरें और भी हैं...