विरोध:कर्मियों का ग्रामीण क्षेत्र भत्ता बंद करने का विरोध, डेमोक्रेटिक टीचर फ्रंट ने नारेबाजी कर सरकार से मांगें पूरी करने की अपील की

नवांशहरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • नेताओं ने कहा कि सरकार के सभी दावे व वायदे गलत साबित हो रहे

डेमोक्रेटिक टीचर फ्रंट ने सरकार के कर्मचारियों के ग्रामीण भत्ता बंद करने व दिसंबर 2015 के बाद सीधी भर्ती कर्मचारियों को परख समय के दौरान छठे वेतन कमिशन के लाभ न देने के फैसले का विरोध किया है। यहां बारादरी गार्डन में करी गई बैठक के दौरान नेता मुलख राज, जसविंदर ओजला, मनोहर लाल ने कहा कि सरकार ने ऐसा कदम उठाकर कर्मचारियों को सरकार विरोध कर दिया है।

नेता शंकर बंगा, अजय चाहड़मजारा, सतनाम सिंह, कुलविंदर खटकड़ आदि नेताओं ने कहा कि अध्यापकों को पंजाब यूटी कर्मचारियों के पैंशन साझे फ्रंट के बैनर तले 19 दिसंबर को मुख्य मंत्री के शहर खरड़ में राज्य स्तरीय रैली करी जाएगी। नेताओं ने कहा कि सरकार के सभी दावे व वायदे गलत साबित हो रहे हैं। यही नहीं सरकार कर्मचारी विरोधी फैसले लगातार ले रही है। कर्मचारियों ने मांगों के संबंध में चल रहे विभिन्न संगठनों के संघर्ष को सही ठहराते हुए सरकार को उनकी मांगें पूरी करने की अपील की है। इस दौरान अणरजीत सिंह, बलवीर रक्कड़, रषपाल शर्मा, बलविंदर भुल्लर, सुरिंदर पाल, चंद्र शेखर और जसविंदर सिंह गर्चा भी मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...