सेंटरों पर सुबह 7 बजे पहुंच रहे लोग:चार दिन बाद मिली कोविशील्ड की 7000 डोज, एक ही दिन में खत्म, 15 मिनट में बंट जाते हैं 500 कूपन

नवांशहर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • स्वास्थ्य अधिकारी बोले- जिस दिन कोविशील्ड आती है, सुबह ही लग जाती है भीड़
  • विभाग दे रहा है तीसरी लहर का अलर्ट, दूसरी ओर केंद्रों पर लग रही सैकड़ों की भीड़

जिले में पहले दौर यह था कि लोग वैक्सीन लगवाने से घबरा रहे थे, जिसके चलते विभाग की ओर से जिले में स्थापित किए गए 20 से अधिक टीकाकरण केंद्रों पर लोगों की आमद या वैक्सीन की डोज लेने वाले लोगों की आमद न के बराबर ही रहा करती थी। हर रोज विभाग के पास वैक्सीन की डोज बच जाती थी। मगर अब हालात यह हैं कि समय बीतने के साथ-साथ लोगों में जागरूकता आई है। जिसके चलते लोग वैक्सीन लगवाने के लिए टीकाकरण केंद्रों पर पहुंच रहे हैं। मगर हालात यह हैं कि अब केंद्रों पर लोग टीका लगने का इंतजार करते हैं, जबकि पहले टीकाकरण टीम लोगों का इंतजार किया करती थी।

पहले चरण में 400-500 को टोकन जारी
शनिवार को जिले में हालात यह रहे कि लोग सुबह साढ़े 7 बजे ही टीकाकरण केंद्रों पर पहुंचना शुरू हो गए थे। जिसके चलते 10 बजते-बजते वैक्सीनेशन केंद्रों पर 500 से 800 तक की संख्या में लोग जमा हो गए थे। जबकि केंद्रों पर वैक्सीन की मात्रा सीमित मात्रा में ही भेजी गई थी। जिसके चलते पहले चरण में टीम की ओर से 400-500 लोगों को ही वैक्सीन लगवाने के लिए टोकन जारी किए गए। जिसके चलते बचे लोगों में से अधिकतर को तो बिना टीका लगवाए ही वापस घरों को लौटना पड़ा।

शनिवार को 7460 ने लगवाई वैक्सीन
जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ. बलविंदर कुमार ने बताया कि शनिवार को 7460 लाभार्थियों को वैक्सीन की डोज दी गई है। जिसके चलते जिले में वैक्सीन की डोज का आंकड़ा 2,56,266 तक पहुंच गया है। सरकार द्वारा जितनी डोज विभाग को जारी की जाती है चाहे वह कोविशील्ड की हो या कोवैक्सीन की उसकी वेस्टेज कम हो इसका अधिक ध्यान रखा जाता है। जबकि सभी वर्किंग केंद्रों पर वैक्सीन समय रहते पहुंचा दी जाती है।

जहां तक केंद्रों की संख्या बढ़ाने की बात है तो अगर सरकार वैक्सीन रेगुलर जारी करे तो केंद्रों की संख्या बढ़ाई जा सकती है। मगर न तो सरकार की ओर से रेगुलर वैक्सीन सप्लाई की जाती है और न ही मात्रा ही अधिक होती है। एेसे में अधिक केंद्रों पर कम आई वैक्सीन में से बांटकर वैक्सीन भेजने पर हरेक केंद्र पर बहुत कम वैक्सीन पहुंच पाएगी, जिससे वैक्सीन तो खराब होगी बल्कि कम लोगों को ही वैक्सीन लग पाएगी।

जिले में 12 टीकाकरण सेंटर ही स्थापित किए
स्वास्थ्य विभाग व सरकार कोरोना की तीसरा लहर का अलर्ट दे रही है। हालात यह हैं जिले में 8 स्वास्थ्य ब्लॉक में 12 टीकाकरण केंद्र ही स्थापित किए गए हैं। जिसके चलते वैक्सीन आने पर केंद्रों पर एक दम से लोगों का जमावड़ा लग जाता है। एक ही कांप्लेक्स में 200 से 500 लोगों के इकट्‌ठा होने की वजह से वहां पर सोशल डिस्टेंसिंग कम हो जाती है। जिसके चलते विभाग व सरकार को वैक्सीनेशन केंद्रों की संख्या व वैक्सीन की संख्या बढ़ाने पर जोर देने की जरूरत है।

खबरें और भी हैं...