भूख हड़ताल:कॉलेज में टीचिंग और नॉन टीचिंग कर्मचारियों ने मांगों को लेकर, पीएयू में किया प्रदर्शन

नवांशहरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • पंजाब एंड चंडीगढ़ कॉलेज टीचर यूनियन लुधियाना में भूख हड़ताल पर बैठे डॉ. किंगरा से मिली

पंजाब एंड चंडीगढ़ कॉलेज टीचर यूनियन (पीसीसीटीयू) की अनिश्चितकालीन हड़ताल जारी है। पीसीसीटीयू के जिले के सदस्य लुधियाना में पीएयू में गए जहां सभी ने धरना दिया। एक दिसंबर से भूख हड़ताल पर बैठे डॉ. हरमीत सिंह किंगरा के पास पहुंच कर उनका हाल जाना और सरकार के खिलाफ रोष प्रदर्शन किया। धरने में डॉ. विनय सोफ्ट, प्रो. रोबिन कुमार, प्रो. नवदीप कौर, डॉ. विशाल पाठक, डॉ. जसवीर सिंह, डॉ. नीरज सद्दी, डॉ. जसप्रीत कौर, प्रो. नीरज कटारिया व प्रो. सुरजीत कौर भी शामिल रहे। बीएलएम गर्ल्स कॉलेज में लगाए धरने में नॉन टीचिंग कर्मचारी यूनियन के सचिव बलबीर सिंह नेगी ने कहा कि यह कॉलेज के नॉन टीचिंग कर्मचारियों की 1 दिसंबर से संशोधित ग्रेड पे के नोटिफिकेशन बिना देरी जारी की जाए, 1 अगस्त 2009 जिनसे बढ़ी दर के साथ हाऊस रेंट और मेडिकल भत्ता रुपए 350 से बढ़ाकर पांच सौ की नोटिफिकेशन जारी की जाए, जबकि यह लाभ कॉलेज में काम कर रहे टीचिंग स्टाफ को दिया गया है।

नॉन टीचिंग की खाली पोस्टों पर लगी रोक को बिना देरी हटा कर भर्ती परिक्रिया शुरू की जाए, कांट्रैक्ट पर भर्ती जिन क्लर्कों को तीन साल पूरे हो चुके हैं उनको पक्का किया जाए और सरकारी कॉलेजों की तर्ज पर एडिड कॉलेजों के कर्मचारियों में छठे पे कमीशन को लागू करने का नोटिफिकेशन जारी किया जाए। उन्होंने बताया कि उक्त मांगों को ले कर नॉन टीचिंग कर्मचारी यूनियन के सदस्य सरकार के मंत्रियों और अधिकारियों को मिल कर मांगपत्र दे चुके हैं परन्तु अभी तक मांगों को लेकर सरकार न कोई भी कदम नहीं उठाया। हाल ही यूनियन नेता उच्च शिक्षा मंत्री प्रकट सिंह, शिक्षा सचिव कृष्ण कुमार डीपीईओ (कालेजों) के साथ मुलाकात की और मांगपत्र दिए गए पर सरकार ने किसी भी मांग को लागू नहीं किया गया। अगर उनकी मांगें नहीं मानी गईं तो मंत्रियों के घरों के बाहर धरने दिए जाएंगे। इस मौके पर कॉलेज स्टाफ सदस्य विवेक कुमार, जीवन कुमार शर्मा, मनोज कंडा, प्रदीप कपूर, कंचन, ओंकार सिंह आदि शामिल थे।

खबरें और भी हैं...