धरने पर बैठे:परिजनों का धरना जारी नहीं करवाया पोस्टमार्टम, रोडवेज बस की टक्कर से बाइक सवार की मौत का मामला

नवांशहर24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • जिला प्रशासन की ओर से अब इस मामले को खत्म करवाने के लिए लगातार प्रयास किए जा रहे

थाना औड़ पुलिस ने रोडवेज बस व मोटरसाइकिल की टक्कर में मारे गए जोगिंदर पाल के परिजनों व रिश्तेदारों की ओर से मुआवजे व परिवार के मेंबर को सरकारी नौकरी की मांग लेकर जारी धरना दूसरे दिन भी जारी रहा। धरने पर बैठे प्रदर्शनकारियों का कहना है कि जब तक प्रशासन की ओर से 25 लाख रुपए मुआवजा और सरकारी नौकरी की मांग को नहीं माना जाता, तब तक वे शव का न तो पोस्टमार्टम करवाएंगे और न ही अंतिम संस्कार करेंगे।

बता दें कि गांव जलाह माजरा निवासी जोगिंदर सिंह जो कि पिछले करीब 20 वर्ष से इंडियन आयल कंपनी में ड्यूटी करते थे की 2 नवंबर को शाम करीब 7 बजे गांव फांबड़ा के पास रोडवेज की बस के साथ टक्कर में मौत हो गई थी। शुक्रवार को धरने के पहले दिन नायब तहसीलदार को मांग पत्र भी सौंपा गया। जिला प्रशासन की ओर से अब इस मामले को खत्म करवाने के लिए लगातार प्रयास किए जा रहे हैं। इस दौरान समाज सेवक मक्खन चौहन, मक्खन सिंह ताहरपुरी और पारिवारिक मेंबरों का कहना है कि जब तक उन्हें मामले में ठोस भरोसा नहीं मिल जाता, वे धरने से नहीं उठेंगे।

खबरें और भी हैं...