पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

चंडीगढ़ की बैठक रही बेनतीजा:कैप्टन संधू के साथ मुलाजिमों की दो दौर की बैठक, 30 फीसदी सैलरी बढ़ोतरी और 850 नई बसें डालने का भी दिया आश्वासन

नवांशहर8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

पंजाब रोडवेज/पनबस कॉन्ट्रैक्ट वर्कर यूनियन पंजाब व पीआरटीसी के कच्चे मुलाजिमों की ओर से कैप्टन संदीप संधू के साथ मीटिंग की गई। इस मौके पर यूनियन के अध्यक्ष हरदीप सिंह काहलों, जनरल सेक्रेटरी अशोक रौड़ी ने जानकारी देते हुए कहा कि यूनियन की ओर से पहले कैप्टन संदीप संधू के साथ दो दौर में चली ये मीटिंगें बेनतीजा रहीं। मीटिंगों में यूनियन ने मुलाजिमों को पक्का करने, रोडवेज में पनबसों की संख्या 10 हजार करने व बराबर काम बराबर तनख्वाह देने की मांग की। उन्होंने मुलाजिमों की मांग को मानते हुए पंजाब में 850 बसों की बढ़ोतरी वेतन में भी 30 फीसदी की बढ़ोतरी की बात कही।

साढ़े 4 साल में सरकार का हर वादा अधूरा

यूनियन के अध्यक्ष हरदीप सिंह काहलों व जनरल सेक्रेटरी अशोक रौड़ी ने कहा कि मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने घर-घर नौकरी, ट्रांसपोर्ट माफिया खत्म करने और समूह विभागों के ठेका मुलाजिमों को पक्का करने की मांग को पहली कैबिनेट मीटिंग में हल करने का वादा किया था, लेकिन कैप्टन अमरिंदर सिंह को सत्ता में आए हुए साढ़े चार वर्ष से अधिक का समय हो गया है, लेकिन कैप्टन सरकार की ओर से उनकी मांग को हल नहीं किया गया।

मुलाजिम बोले- 30 फीसदी वेतन बढ़ाना मांग नहीं, जो मांग है उस पर चर्चा हुई नहीं

यूनियन की प्रदेश कमेटी ने इस पर कोई फैसला न लेते हुए यूनियन के सभी सदस्यों के साथ 15 सितंबर को जालंधर में विशेष बैठक करने का फैसला लिया है। सभी साथियों की सहमति के बाद ही कोई अन्य फैसला लिया जाएगा। 30 फीसदी तनख्वाह बढ़ाना उनकी मांग नहीं है। क्योंकि ये बात तो सरकार ने हड़ताल शुरू करने से पहले ही कह दी थी।

लेकिन उनकी जो पक्का करने की मांग है उस पर कोई चर्चा नहीं की गई। मीटिंग में कैप्टन संदीप संधू द्वारा यूनियन को अगले 14 दिन के लिए हड़ताल खोलने के लिए कहा गया। लेकिन सदस्यों ने उन्हें साफ कह दिया कि वे अपने अन्य साथियों के साथ बैठक कर ही कोई फैसला लेंगे। उन्होंने सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह के साथ बैठक करने का समय दे दिया।

लेकिन कैप्टन अमरिंदर सिंह ने समय देने के बाद बैठक रद्द कर दी, जिसकी वे निंदा करते हैं। इस मौके पर बलविंदर सिंह, दलजीत सिंह, गुरजीत सिंह, अजैब सिंह, रजत कुमार, हरजाप सिंह, कुलदीप सिंह, गुरिंदर सिंह, अश्वनी कुमार, अमरजीत सिंह, सुलक्षण सिंह, विजय कुमार, सोहन लाल, अमरीक सिंह, हरदीप सिंह, गुरदीप सिंह, संदीप सिंह, सुखविंदर सिंह, राज कुमार, हेम राज, चरनजीत चन्नी, लखवीर सिंह मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...