पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

खुदकुशी:10 दिन पहले रीहैब सेंटर से लौटे व्यक्ति ने खुद को आग लगाई

जालंधर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • मां सुबह 6:30 बजे दूध लेकर लौटी तो कमरा अंदर से बंद था और धुआं निकल रहा था

भार्गव कैंप में शनिवार सुबह करीब 6:30 बजे 40 साल के राजेश कुमार पुत्र बंता राम ने खुद को आग लगा ली। उसका 95 फीसदी शरीर जल गया। उसे सिविल अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। राजेश के भतीजे ललित ने बताया कि उनकी जाॅइंट फैमिली है और चाचा राजेश कुंवारा था। रोज की तरह राजेश की मां विमला दूध लेने घर से थोड़ी दूर गई थीं।

जब वापस आईं तो राजेश ने कमरे को बंद किया हुआ था और अंदर से धुआं निकल रहा था। मां चीखने लगी तो मोहल्ले वाले इकट्ठे हो गए और दरवाजा तोड़ा गया। अंदर देखा तो राजेश को बुरी तरह आग लगी हुई थी। लोगों ने आग बुझा एंबुलेंस में सिविल अस्पताल पहुंचाया। ललित ने बताया कि अस्पताल में राजेश पूरा दिन दर्द से कराहता रहा।

लौटने के बाद भी नशे के कारण परेशान रहता था, 95% झुलसा

थाना भार्गव कैंप के एसएचओ भगवंत सिंह भुल्लर ने बताया कि राजेश पिछले काफी समय से नशा करने का आदी था। परिवार ने उसे उन्होंने लुधियाना के रीहेबीलिटेशन सेंटर में करीब 45 दिन तक रखा था। दस दिन पहले ही वह घर लौटा था। वहां से आने के बाद भी वह नशे को लेकर काफी परेशान रहता था।

एसएचओ भुल्लर ने बताया कि पीड़ित के बयान दर्ज होने पर ही पता चलेगा कि उसने खुद को आग क्यों लगाई। इस संबंध में सिविल अस्पताल की इमरजेंसी में तैनात डाॅ. सुखविंदर ने बताया कि राजेश 95 फीसदी जल चुका है। जब उसे एंबुलेंस से उतारा गया तो उसका पूरा शरीर काला पड़ चुका था। फिलहाल उसकी हालत नाजुक है।

भार्गव कैंप में आग लगाने की दूसरी घटना
बीते कुछ दिनों में भार्गव कैंप के एरिया में खुद को आग लगाने की यह दूसरी घटना है। 21 जनवरी को गीता कॉलोनी में देर रात इलेक्ट्रीशियन दीपक चाहल ने खुद को आग लगी ली थी। अगले ही दिन उसने दम तोड़ दिया था।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आपकी मेहनत और परिश्रम से कोई महत्वपूर्ण कार्य संपन्न होने वाला है। कोई शुभ समाचार मिलने से घर-परिवार में खुशी का माहौल रहेगा। धार्मिक कार्यों के प्रति भी रुझान बढ़ेगा। नेगेटिव- परंतु सफलता पा...

    और पढ़ें