पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Jalandhar
  • 2000 MW Power Shortage In The State, 6 Hours Cut In 8 Districts, Production Reduced In 3 Plants And Hydel Projects Of Talwandi Sabo

पावरकम:सूबे में 2000 मेगावाट बिजली की कमी, 8 जिलों में 6 घंटे तक कट, तलवंडी साबो के 3 प्लांट व हाइडल प्रोजेक्ट में उत्पादन घटा

जालंधर20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • कारोबारियों की चेतावनी के बावजूद नॉर्थ व साउथ जोन को अगले 4 दिन राहत नहीं

पंजाब में बिजली संकट चरम पर पहुंच गया है। सूबे में बिजली की कमी अब करीब 2000 मेगावाट पहुंच गई है। थर्मल प्लांटों में बिजली उत्पादन में कमी आ गई है। बारिश में देरी के कारण रणजीत सागर डैम में पानी की कमी के चलते बुधवार को 100 मेगावाट की और कमी का सामना करना पड़ा है। चौतरफा बिजली की कमी से जूझ रहे पावरकॉम ने बुधवार दोपहर सवा एक बजे से लेकर शाम 4 बजे तक जालंधर समेत 8 जिलों में कई जगहों में बिजली कटौती की है।

पूरे राज्य में कैटेगरी-4 में शामिल कारखानों का मुख्य बिजली लोड 18 जुलाई तक बंद रखा जाएगा, जबकि वह केवल 50 फीसदी जनरल लोड पर ही काम कर सकेंगे। इसके अलावा नॉर्थ जोन और सेंट्रल जोन के जालंधर, होशियारपुर, नवांशहर, कपूरथला, लुधियाना, खन्ना, मंडी गोबिंदगढ़ के कारखानों को 4 दिन का बिजली कट जारी कर दिया गया है।

जालंधर के कारोबारी संगठनों ने एक दिन पहले पावरकॉम को चेतावनी दी थी कि अगर बिजली कट रद्द नहीं किया गया तो वह 8 जुलाई को धरना देंगे। पावरकॉम ने बिजली कटौती में कोई राहत नहीं दी है। इससे पहले पटियाला फोकल पॉइंट के कारोबारी संगठनों ने प्रदर्शन किया था।

असर...इंडस्ट्री बंद होने से 1500 मेगावाट लोड कम हुआ
पंजाब में बुधवार को पीएसपीसीएल करीब 1500 मेगावाट लोड उद्योगों को पावर कट की टाइमिंग बढ़ाए जाने के चलते कम करने में कामयाब रहा है। बाकी लोड का प्रबंधन करने के लिए घरों को भी बिजली कट लगा दिए गए हैं। बोर्ड ने दावा किया कि खेती सेक्टर को 9.2 घंटे बिजली दी जा रही है। हालांकि तलवंडी साबो थर्मल प्लांट के 2 यूनिट बंद होने से इन में से दो प्लांट बंद होने से पहले 1200 मेगावाट बिजली की कमी हुई।
विभिन्न प्राइवेट थर्मल प्लांट के बिजली उत्पादन में काफी कमी रिकॉर्ड की गई है। गोइंदवाल साहिब के 540 मेगावाट के प्राइवेट थर्मल प्लांट में 502 मेगावाट बिजली मिल रही है। यहां 100 मेगावाट बिजली कम बन रही है। राजपुरा के प्राइवेट थर्मल प्लांट में बिजली जनरेशन 1400 मेगावाट क्षमता की तुलना में 72 मेगावाट कम होकर 1328 मेगावाट हासिल हो रहा है।

दूसरी तरफ रणजीत सागर डैम में 600 मेगावाट बिजली जनरेशन की कैपेसिटी के मुकाबले 212 मेगावाट बिजली कम पैदा हो रही है। विशेषज्ञों का कहना है कि मानसून सक्रिय होने तक सूबे की पावर डिमांड कम होती नजर नहीं आ रही है। उम्मीद है कि सूबे में 16 जुलाई तक मानसून पूरे पंजाब को कवर कर सकता है।

पटियाला में 6 और मोरिंडा में 5 घंटे तक गुल रही बिजली
सूबे में बुधवार को 8 जिलों में बिजली कटों ने एक बार फिर लोगों को सताया। लुधियाना में 3 से 5 घंटे तक कट लगा, गांवों में भी 6 घंटे तक बिजली नहीं थी। वहीं, पठानकोट में दोपहर साढ़े 12 बजे गई बिजली साढ़े तीन बजे आई। मोरिंडा में करीब 5 घंटे कट लगा। जालंधर में दोपहर को 3 घंटे तक बिजली बंद रही। फरीदकोट में 1-3 बजे तक बिजली गुल रही। मोहाली में 4 घंटे, अमृतसर के वल्ला में 4 से साढ़े 6 बजे तक बिजली कट लगा। पटियाला में भी कई इलाकों में 6 घंटे तक बिजली की कटौती की गई। कपूरथला, फरीदकोट में 2 घंटे कट लगा।

खबरें और भी हैं...