पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Jalandhar
  • 25 Lakh Was Grabbed On The Pretext Of Sending Jalandhar RTA Office Employee To America, Only A Friend Cheated By Conspiring With 4 Companions

धोखेबाज से यारी महंगी पड़ी:जालंधर RTA ऑफिस के कर्मचारी को अमेरिका भेजने के बहाने 25 लाख हड़पे, 4 साथियों संग साजिश रच दोस्त ने ही की ठगी

जालंधर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पुलिस ने आरोपी दोस्त उसके चार साथियों पर केस दर्ज कर लिया है। - प्रतीकात्मक फोटो - Dainik Bhaskar
पुलिस ने आरोपी दोस्त उसके चार साथियों पर केस दर्ज कर लिया है। - प्रतीकात्मक फोटो

जालंधर के रीजनल ट्रांसपोर्ट अथॉरिटी (RTA) ऑफिस में काम करने वाले एक कर्मचारी से विदेश भेजने के नाम पर 25 लाख ठग लिए गए। इस ठगी को उसके ही दोस्त ने अपने चार और साथियों के साथ मिलकर अंजाम दिया। पूरे मामले की शिकायत पुलिस तक पहुंची तो आरोपियों के खिलाफ ठगी व ट्रैवल एक्ट का केस दर्ज कर लिया गया है। खास बात यह है कि पीड़ित कर्मचारी ने जब भी आरोपी को रुपए दिए तो उसकी फोटो या वीडियो का प्रूफ जरूर तैयार कर लिया। जिस वजह से केस दर्ज करने में आसानी रही।

दोस्त ने कहा, उसका जानकार ट्रैवल एजेंट भेजता है अमेरिका

गांव कुक्कड़ के रहने वाले तरूण कुमार ने पुलिस को शिकायत दी थी कि उसकी फिल्लौर के रहने वाले गुरिंदर सिंह के साथ दोस्ती थी। गुरिंदर अब कपूरथला के गांव नंगल लुबाना में रहता था। उसके विदेश जाने की इच्छा सुनकर गुरिंदर ने कहा कि अंबाला में उसका जानकार ट्रैवल एजेंट है, जो लोगों को अमेरिका भेजता है। उसका काम बिल्कुल साफ-सुथरा है। उसके फ्रॉड वाले कोई मामले नहीं हैं। दोस्त होने की वजह से वह गुरिंदर की बातों में आ गया और 35 लाख में सौदा तय हो गया। इसके बाद उसने अलग-अलग समय पर करीब 25 लाख दे दिए।

अंबाला होटल में ठहराया, फिर बोला- ट्रैवल एजेंट ऑफिस में रेड हो गई, काम में देरी होगी

गुरिंदर उसे अंबाला भी ले गया और होटल में ठहरा दिया। थोड़ी देर बाद आकर उसने कहा कि ट्रैवल एजेंट ऑफिस में रेड पड़ गई है, उसके काम में कुछ देरी होगी। इसके बाद न उसे विदेश भेजा और न ही रुपए लौटाए। जब भी उसे पूछता तो वो कोई न कोई मनगढ़ंत कहानी सुना देता था। उसने रुपए वापस लौटाने को कहा तो आरोपी राजी नहीं हुआ।

पुलिस जांच में पता चला, शुरू से ही थी रुपए हड़पने की साजिश

पुलिस ने इसकी जांच की तो पता चला कि तरूण RTA ऑफिस में काम करता है। गुरिंदर पुराना जानकार होने की वजह से उसके बारे में सब कुछ जानता था। इसलिए उसने बेअंत सिंह बंटी व उसके भाई गुलाब सिंह निवासी संगरूर व भूपिंदर सिंह निवासी दशमेश नगर और जगदेव सिंह निवासी लौंगोवाल के साथ मिलकर योजनाबद्ध तरीके से तरूण को फंसाया। पुलिस ने इन सभी 5 आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज किया है।

खबरें और भी हैं...