पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सरफेस वाटर प्रोजेक्ट:सतलुज दरिया का 275 एमएलडी पानी सिटी में रोजाना 24 घंटे होगा सप्लाई, अक्टूबर 2023 से मिलेगी सुविधा

जालंधर17 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • 864 करोड़ की योजना के लिए बनी विशेष कमेटी की हुई पहली मीटिंग

सिटी में ग्राउंड वाटर की बचत कर सतलुज दरिया के पानी को पाइप लाइन द्वारा लाकर 24 घंटे सप्लाई करने के लिए स्मार्ट सिटी के तहत सरफेस वाटर प्रोजेक्ट का निर्माण कार्य शुरू हो चुका है। निगम के एसई सतिंदर कुमार ने बताया कि आदमपुर के गांव जगरावां में अधिग्रहण की गई 50 एकड़ जमीन की चारदीवारी का काम शुरू हो गया है, जहां ठेका कंपनी एलएंडटी ने प्रोजेक्ट के लिए वाटर ट्रीटमेंट प्लांट तैयार करना है। इसके बाद दरिया के पानी को नहर के रास्ते 17.5 किलोमीटर लंबी पाइप लाइन से सिटी में बनने वाले अंडरग्राउंड टैंक में स्टोर किया जाएगा।

200 से 2000 एमएम मोटाई वाले लाइन के लिए पाइपों की खरीद का काम चल रहा है। जबकि टैंक से सिटी में सप्लाई के लिए बिछाई जाने वाली करीब 97 किलोमीटर लोहे की पाइप लाइन में से 12 किमी लंबाई की पाइप सिटी में पहुंच चुकी है। इसके लिए ठेका कंपनी की टीम सर्वे भी कर चुकी है। अक्टूबर, 2023 में प्रोजेक्ट के तहत रोजाना 275 एमएलडी दरिया के पानी की सिटी में रोजाना सप्लाई का टारगेट है। स्मार्ट सिटी के तहत प्रोजेक्ट के लिए विशेष रूप से गठित की गई प्रोजेक्ट मैनजमेंट कमेटी की बुधवार को हुई पहली मीटिंग में ठेका कंपनी के प्रतिनिधियों ने उक्त जानकारी दी।

साल 2036 तक 275 एमएलडी व फिर 2051 तक सप्लाई होगा 350 एमएलडी पानी- कमेटी का चेयरमैन स्मार्ट सिटी के सीईओ करणेश शर्मा हैं। जबकि मेंबर के रूप में सीवरेज बोर्ड, निगम, सिंचाई, नहरी विभाग के एसई और ठेके पर रखे गए कंसल्टेंट को रखा गया है। कन्वीनर सीवरेज बोर्ड के एक्सईएन जितन वासुदेव को बनाया गया है। कमेटी प्रोजेक्ट के काम के संचालन, ठेका कंपनी से तालमेल और निगरानी का काम देखेगी।

तीन साल में पूरा करना है प्रोजेक्ट- प्रोजेक्ट का वर्कऑर्डर अक्टूबर, 2020 में हुआ था, जिसमें 3 साल में काम पूरा करने की अवधि निर्धारित है। ऐसे में अक्टूबर, 2023 से सिटी में 24 घंटे दरिया के पानी की सप्लाई का टारगेट रखा गया है। करीब 864 करोड़ की लागत वाले प्रोजेक्ट के पहले चरण में साल 2036 तक सिटी की जरूरत के अनुसार रोजाना 275 एमएलडी पानी की सप्लाई होगी, जबकि इसके बाद साल 2051 तक रोजाना के लिए 350 एमएलडी पानी की खपत के लिए सप्लाई होगी।

पाइपलाइन के लिए भी जमीन की होगी खरीद - मीटिंग में बताया गया कि गांव जगरावां से सिटी तक पाइपलाइन तो बिस्त दोआब नहर के रास्ते आएगी। लेकिन इसके अलावा कई जगह पर लाइन के लिए जमीन की खरीद करनी होगी। साथ ही कई अलग-अलग विभागों से प्रोजेक्ट के लिए एनओसी भी लेनी होगी।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- किसी विशिष्ट कार्य को पूरा करने में आपकी मेहनत आज कामयाब होगी। समय में सकारात्मक परिवर्तन आ रहा है। घर और समाज में भी आपके योगदान व काम की सराहना होगी। नेगेटिव- किसी नजदीकी संबंधी की वजह स...

    और पढ़ें