• Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Jalandhar
  • 280 New Cases Including Gynecologist And Eight Students Were Found, 21 Patients Including Three From Delhi Admitted To Hospitals

मॉडल टाउन पहुंचा ओमिक्रॉन:गायनाकोलॉजिस्ट और आठ विद्यार्थियों समेत 280 नए केस मिले, दिल्ली के तीन सहित 21 मरीज अस्पतालों में दाखिल

जालंधर21 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
फाइल फोटो
  • इटली से अमृतसर एयरपोर्ट पहुंचे 125 संक्रमित यात्रियों में 15 जालंधर के रहने वाले
  • 21 से 40 की उम्र ज्यादा संक्रमित, लेवल-2 में 18 और लेवल-3 में 3 संक्रमित, राहत-बुजुर्ग सुरक्षित

कोरोना संक्रमितों की तीसरी लहर में वीरवार को भारी उछाल आया है। सेहत विभाग की रिपोर्ट के मुताबिक 280 लोगों को कोरोना की पुष्टि हुई है। संक्रमितों में शहर की मशहूर और एवं प्राइवेट अस्पताल की सबसे पुरानी गायानकोलॉजिस्ट को भी संक्रमण की पुष्टि हुई है। जबकि इसके साथ ही माइक्रो कंटेनमेंट जोन में से भी मरीजों को पुष्टि हुई है। संक्रमितों की संख्या 64288 पर पहुंच गई है। वर्तमान में 647 एक्टिव केस हैं।

दूसरी तरफ फ्रांस बेल्जियम से आए यात्री को ओमिक्रॉन की पुष्टि हुई है। 52 साल का उक्त संक्रमित मॉडल टाउन निवासी है। वह कुछ दिन पहले ही बेल्जियम से जालंधर आया था। उसे आइसोलेट किया गया है। बड़ी चिंता की बात यह भी है कि इटली से अमृतसर एयरपोर्ट पहुंचे संक्रमित यात्रियों में 15 जालंधर के हैं। विभाग की रिपोर्ट के मुताबिक व्यक्ति के संपर्क में आने वाले सभी लोगों की टेस्टिंग के बाद उनकी रिपोर्ट निगेटिव आई है। सेहत विभाग के मुताबिक वीरवार को प्राइवेट अस्पताल की डॉक्टर के अलावा कपूरथला रोड स्थित मेरिटोरियस स्कूल के सात विद्यार्थियों को भी संक्रमण की पुष्टि हुई है। इसके अलावा न्यू जवाला नगर से चार, नेशनल पार्क मकसूदां से छह, मास्टर तारा सिंह नगर से पांच, गुलाब देवी रोड से तीन, मॉडल टाउन के एरिया से भी छह लोगों को कोरोना हुआ है। साथ ही प्राइवेट और सरकारी दफ्तरों में काम करने वाले भी 100 से अधिक कोरोना के शिकार हुए हैं।

डॉक्टर्स बोले- गाइडलाइंस का पालन करें, ताकि संक्रमण को रोका जा सके

संक्रमितों की संख्या में करीब 300 का उछाल आने के बाद वीरवार को सबसे ज्यादा मरीज 21 से 40 साल तक की उम्र के बीच के ही आए है। डॉक्टर्स का कहना है कि जिन लोगों को मौजूदा समय में संक्रमण की पुष्टि हो रही है, उनमें ज्यादा युवा ही है, जिनसे आगे संक्रमित मरीजों को संक्रमण की पुष्टि हो रही है। इसके अलावा 61 साल से 90 साल तक की उम्र के लोगों की संख्या में भी भारी गिरावट है। डॉक्टर्स का कहना है कि कोरोना गाइडलाइंस का पालन करते रहें ताकि संक्रमण का फैलाव रोका जा सके।

288 मरीज होम आइसोलेट, कोई संक्रमित वेंटिलेटर पर नहीं

जिले के सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों में कोरोना मरीजों की गिनती बढ़ी है। शहर को दो प्राइवेट अस्पतालों में दिल्ली के रहने वाले तीन मरीज भी दाखिल हैं, जबकि मिलिट्री, बीएसएफ और सिविल अस्पताल के अलावा प्राइवेट अस्पतालों में बाकी मरीजों का इलाज चल रहा है। जिले में वर्तमान में कोई भी मरीज वेंटिलेटर पर नहीं है, जबकि लेवल-2 की श्रेणी में 18 और लेवल-3 की श्रेणी में 3 मरीज दाखिल है। इसके अलावा 288 मरीज घरों में आइसोलेट है।

4600 के मुकाबले 3000 ही हो सकी सैंपलिंग

सेहत विभाग कम स्टाफ होने का हवाला देकर सैंपलिंग कम होने की दुहाई दे रहा है। सैंपलिंग का टारगेट 70 फीसदी तक भी पूरा नहीं हो पा रहा है। कई ब्लॉक ऐसे हैं, जहां 100 से 200 का रोजाना का टारगेट है, लेकिन गिनती कम है। वीरवार को भी 4600 के टारगेट में से तीन हजार के करीब ही सैंपलिंग हो सकी। हालांकि सिविल सर्जन डॉ. रंजीत सिंह रोज सीनियर मेडिकल अफसरों के साथ सुबह 10 बजे सैंपलिंग के अलावा अन्य रिपोर्टिंग के लिए जूम मीटिंग कर रहे हैं। दूसरी तरफ जिले में वीरवार को करीब 609 बच्चों को कोरोना की डोज लगाई गई। स्कूल बंद होने के कारण बच्चों की वैक्सीनेशन कुछ कम है, लेकिन सेहत विभाग के अधिकारियों का कहना है कि जल्द से जल्द टारगेट पूरा कर लिया जाएगा। उन्होंने बताया कि बच्चों को सुरक्षित रखने के लिए पैरेंट्स को आगे आना चाहए।

खबरें और भी हैं...