पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Jalandhar
  • 29,999 Cheated By Taking Number And OTP On The Second Day Of Getting SBI Credit Card; Thugs From Madhya Pradesh, Delhi And Assam Turned Out

सतर्क न होने का भुगता खामियाजा:SBI क्रेडिट कार्ड मिलने के दूसरे ही दिन नंबर और OTP लेकर 29,999 ठगे; मध्यप्रदेश, दिल्ली और असम के निकले ठग

जालंधर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज कर पुलिस अब उन्हें पकड़ने की तैयारी कर रही है। - प्रतीकात्मक फोटो - Dainik Bhaskar
आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज कर पुलिस अब उन्हें पकड़ने की तैयारी कर रही है। - प्रतीकात्मक फोटो
  • क्रेडिट कार्ड की जानकारी देने के बदले ले ली डिटेल्स, साइबर सेल की जांच के बाद केस

फर्जी कस्टमर केयर प्रतिनिधि बन नए मिले SBI के क्रेडिट कार्ड के बारे में जानकारी देने के बदले ठग गिरोह ने दूसरे ही दिन उससे उसका नंबर व OTP लेकर 29,999 निकलवा लिए। इसकी जांच हुई तो ठगी को अंजाम देने वाले आरोपी मध्यप्रदेश, दिल्ली व असम के निकले। साइबर सेल की जांच के बाद पुलिस ने 6 आरोपियों के खिलाफ धोखाधड़ी और IT एक्ट के तहत केस दर्ज कर लिया है।

नया कार्ड था तो कस्टमर केयर समझकर भरोसा कर लिया

टाहली साहिब के रहने वाले स्वर्णजीत सिंह ने बताया कि उन्होंने स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) का क्रेडिट कार्ड लिया था। जिस दिन उन्हें क्रेडिट कार्ड मिला, उसके अगले ही दिन उनके मोबाइल पर 74296-60809 और 85108-23769 से फोन आया। उन्होंने कहा कि वह SBI के कस्टमर केयर से बाेल रहे हैं। उन्होंने क्रेडिट कार्ड से जुड़ी जानकारी देने के लिए उनसे क्रेडिट कार्ड का नंबर ले लिया। फिर उसकी बाकी डिटेल्स लेने के बाद OTP भी ले लिया। थोड़ी देर में उन्होंने दो ट्रांजेक्शन के जरिए उनके क्रेडिट कार्ड से 19,999 और 10 हजार रुपए निकलवा लिए। जब उनके पास क्रेडिट कार्ड से पैसे निकलने के मैसेज आए तो उन्हें समझ आया कि उनके साथ ठगी हो गई है।

ठग गिरोह में 4 मेंबर मध्यप्रदेश के, इनके खाते में गए रुपए

पुलिस के साइबर सेल ने इसकी जांच की तो पता चला कि उसके साथ ठगी करने वालों में असम के गोलापाड़ा का गोपाल रे, वेस्ट दिल्ली उत्तम नगर का पंकज कुमार और मध्यप्रदेश के राजमाता ग्वालियर के विनोद चौरसिया, मध्यप्रदेश जबलपुर के सरन, रामप्रसाद व राेशन कोरी ने इस वारदात को अंजाम दिया है। इन्होंने ही क्रेडिट कार्ड मालिक को फोन किया और फिर उससे जानकारी लेकर पैसे निकलवाए। इसके बाद इन्हीं लोगों के खाते में वो पैसे ट्रांसफर कराए गए और इन्होंने ही वो पैसे इस्तेमाल किए।