पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

अवैध निर्माण जारी:सिटी की 30% सड़कें टूटी, सीवरेज और कूड़ा प्रबंधन में कोई सुधार नहीं

जालंधर11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • सदन में मेयर ने कहा था कमिश्नर अच्छा काम कर रहे, ताली बजाओ ! ... 5 माह में ऐसे कौन से काम हो गए जो ताली बजाई जाए, इसके जवाब में मेयर बोले- चुनौतियां कमिश्नर ही झेलेंगे

सिटी में गली-मोहल्ले, लिंक और मेन रोड की लंबाई करीब 3200 किलोमीटर है, इसमें से 30 फीसदी सड़क या तो खस्ताहाल है या फिर सही हालत में नहीं हैं। इससे बढ़ते प्रदूषण के कारण एनजीटी से लेकर पीपीसीबी तक बीते 2 साल से निगम को हिदायत दे रही है, बावजूद इसके चारों विधानसभा हलका में छोटी से बड़ी सड़क बनाने का काम एस्टीमेट और टेंडरों में फंसा है, लेकिन मेयर जगदीश राजा सिटी के हालात को बेहतर बनाने का श्रेय देकर कमिश्नर करणेश शर्मा का हौसला बढ़ाने के लिए निगम हाउस की मीटिंग में पार्षदों से ताली बजवा रहे हैं।

गौर हो कि निगम हाउस की मीटिंग में मेयर ने कहा था कि कमिश्नर अच्छा काम कर रहे, ताली बजाओ! मेयर के इस नए रवैये पर तो अकाली दल और भाजपा के साथ कांग्रेस के ही विधायकों ने भी आलोचना करनी शुरू दी है। कह रहे हैं कि आखिर 5 माह के कार्यकाल में कौन सा काम हो गया, जो कमिश्नर तारीफ के काबिल हो गए। जबकि सिटी के लोगों के लिए दशकों से बनी बड़ी समस्या के हालात सुधरने की बजाय और बिगड़ते जा रहे हैं। जबकि स्मार्ट सिटी के प्रोजेक्टों का भी यही हाल है, जहां कई प्रोजेक्ट के काम शुरू होने के 2 साल बाद भी सिटी की नुहार बदलने का लोगों को अभी भी इंतजार है।

ये बड़ी 5 समस्याएं, जिसमें कोई सुधार नहीं

1. सड़क : सिटी की छोटी से बड़ी 30 फीसदी सड़क अब भी टूटी हैं। सरकार से मिली 25-25 करोड़ की ग्रांट से चारों एमएलए 80 फीसदी फंड सिर्फ सड़क पर खर्च कर रहे हैं, निगम ने जो टेंडर करवा रखे हैं, वो अलग से। जबकि सर्दी शुरू होने से अब 4 माह बाद ही लुक वाली सड़क का काम होगा।
2. कूड़ा : सिटी में रोजाना निकलने वाले 500 टन कूड़े के लिए खुले में बने डंप को लेकर कोई ठोस काम नहीं हो पाया है। एनजीटी की सख्ती के बावजूद सॉलिड वेस्ट की समस्या कम करने के लिए सेग्रीगेशन और बल्क वेस्ट जेनरेटर पर सिर्फ खानापूर्ति हो रही है। वरियाणा डंप पर बने 8 लाख मीट्रिक टन कूड़े के पहाड़ को लेकर 2 साल से फंसा बायो माइनिंग प्रोजेक्ट शुरू नहीं हुआ है।
3. सीवरेज : नॉर्थ और वेस्ट हलका के आधा दर्जन वार्ड में सीवरेज ओवरफ्लो की समस्या से लोग बीते डेढ़ साल से जूझ रहे हैं। लेदर कांप्लेक्स रोड से लेकर गली-मोहल्ले में दो फुट तक गंदा पानी लोगों के घरों में घुस रहा है। कांग्रेस के ही पार्षद और एमएलए के विरोध के बावजूद निगम कोई हल नहीं निकाल पाया है।
4. अवैध निर्माण : सिटी में अवैध निर्माण धड़ल्ले से चल रहा है। जो कुछेक कार्रवाई हुई है, जहां कोई सियासी सिफारिश नहीं थी। अन्यथा बड़ी इमारत और अवैध कॉलोनी पर कार्रवाई तो दूर बकाया फीस की वसूली के लिए अब तक नए कमिश्नर 5 माह में एक मीटिंग तक नहीं कर पाए हैं। हाईकोर्ट में 448 अवैध निर्माण और कॉलोनी को लेकर चल रही पीआईएल को लेकर भी कार्रवाई बंद है, इसके लिए सुनवाई की तारीख का इंतजार हो रहा है।
5. रेवेन्यू : कोरोना काल में निगम को रेवेन्यू का नुकसान हुआ है। फिर भी नए कमिश्नर की तैनाती के बाद भी टैक्स, बिल और रिकवरी को लेकर कोई बड़ा बदलाव नहीं आया है। अवैध कॉलोनी को रेगुलर करने की करीब 18 करोड़ रुपए के बकाया फीस से लेकर विज्ञापन के ठेके से लेकर अवैध विज्ञापन और अतिक्रमण को लेकर कार्रवाई न होने से रेवेन्यू बढ़ने की बजाय कम हुआ है।

स्मार्ट सिटी का प्रोजेक्ट भी पटरी पर नहीं ला पाए निगम कमिश्नर
निगम कमिश्नर करणेश शर्मा के पास ही स्मार्ट सिटी के सीईओ का कार्यभार है। 5 माह पहले उनके चार्ज संभालने से पहले रोड स्वीपिंग मशीन का प्रोजेक्ट फाइनल हो चुका था, लेकिन तब चल रहे रूफ टॉप सोलर पैनल, 11 चौक का सौंदर्यीकरण, सिटी के 8 पार्क को संवारने के साथ ही अन्य छोटे-छोटे प्रोजेक्ट में से कोई भी सिरे नहीं चढ़ पाया है। खासकर चौक के डिजाइन और काम में देरी को लेकर सांसद से लेकर चारों एमएलए कई बार नाराजगी जता चुके हैं।

मेयर बोले, तारीफ की, लेकिन चुनौती भी झेलनी होगी, जवाब भी लेंगे
मेयर जगदीश राजा का कहना है कि हाल ही में हुए कुछ काम को लेकर बेहतर फीडबैक मिलने के कारण उन्होंने कमिश्नर की तारीफ की थी, लेकिन सिटी में जो बड़ी समस्या है, उसकी चुनौती भी कमिश्नर को ही झेलनी होगी। इतना ही नहीं कमिश्नर को अपने नीचे के अफसरों से भी परफार्मेंस लेनी होगी। अगर सुधार न हुआ तो मैं तारीफ की जगह कमिश्नर से जवाब मांगने का भी पूरा अधिकार रखता हूं।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- पिछले रुके हुए और अटके हुए काम पूरा करने का उत्तम समय है। चतुराई और विवेक से काम लेना स्थितियों को आपके पक्ष में करेगा। साथ ही संतान के करियर और शिक्षा से संबंधित किसी चिंता का भी निवारण होगा...

और पढ़ें