पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Jalandhar
  • 4 Assistant Sub inspectors Of Jalandhar Police Caught 25 Lakh Cash Without Proof And Left With 4 Lakh Bribe, Two Arrested, ED Also Active Due To Fear Of Black Money And Hawala Amount

जिस नाके का कंट्रोल रूम SSP ऑफिस, वहीं भ्रष्टाचार:जालंधर पुलिस के 4 ASI ने बिना प्रूफ पकड़ी 25 लाख रुपए की नकदी 4 लाख लेकर छोड़ दी; दो गिरफ्तार, ED भी करेगी जांच

जालंधर12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
यह तस्वीर जालंधर रुरल पुलिस के SSP नवीन सिंगला के उसी नाके को देखते की है, जहां पर 4 पुलिस वालों ने रिश्वत ली। - Dainik Bhaskar
यह तस्वीर जालंधर रुरल पुलिस के SSP नवीन सिंगला के उसी नाके को देखते की है, जहां पर 4 पुलिस वालों ने रिश्वत ली।

जालंधर पुलिस में भ्रष्टाचार का बड़ा मामला उजागर हुआ है। फिल्लौर में लगाए हाईटेक नाके पर 4 सहायक सब इंस्पेक्टरों (ASI) ने बिना प्रूफ वाला 25 लाख कैश पकड़ा। लेकिन उसे जब्त करने की बजाय 4 लाख की रिश्वत लेकर छोड़ दिया। तीन दिन पुराने इस मामले में पोल तब खुली, जब किसी मुखबिर ने उनकी इस करतूत के बारे में थाने जाकर SHO संजीव कपूर को जानकारी दी। पड़ताल में मामला सही पाए जाने पर चारों के खिलाफ केस दर्ज करके दो ASI को गिरफ्तार कर लिया गया है। दो आरोपी पुलिस वाले अभी फरार हैं। पुलिस ने रिश्वत की रकम में से 3.97 लाख रुपए बरामद कर लिए हैं। वहीं, इतना कैश बिना प्रूफ के ले जाने का मामला उजागर होने के बाद इन्फोर्समेंट डायरेक्टोरेट (ED) भी सक्रिय हो गया है। हवाला राशि या ब्लैक मनी के एंगल से पुलिस के जरिए कैश ले जाने वालों की जांच की तैयारी की जा रही है।

ऑल्टो कार सवार थे अबोहर व तरनतारन के दो लोग

पुलिस थाना फिल्लौर के SHO संजीव कपूर के मुताबिक सतलुज हाईटेक नाके पर गैरकानूनी गतिविधियों की जांच के लिए पुलिस टीम की तैनाती की गई थी। जिसमें ASI हुसन लाल व ASI सुखविंदर सिंह, ASI कुलदीप सिंह व ASI प्रमोद कुमार शामिल थे। 3 सितंबर को दोपहर करीब ढाई बजे इन लोगों ने एक ऑल्टो कार नंबर PB08CZ6671 को रोका। जिसमें विशाल बजाज पुत्र सुभाष चंद्र निवासी अबोहर व जसवीर सिंह पुत्र जरनैल सिंह निवासी तरनतारन सवार थे।

25 लाख देख डोली नीयत, उसी में से 4 लाख निकाल भगा दिए कार सवार

पुलिस टीम ने तलाशी ली तो एक बैग में 25 लाख रुपए भरे हुए थे। पुलिस वालों ने इतनी भारी मात्रा में कैश ले जाने के प्रूफ मांगे तो वे कोई दस्तावेज नहीं दिखा सके। यह देख पुलिस वालों की नीयत डोल गई। उन्होंने कैश छोड़ने के बदले 4 लाख में सौदा कर लिया। इसके बाद अपने हिस्से के 4 लाख लेकर 21 लाख रुपए कार सवारों को देकर वहां से भगा दिया।

थाने सूचना नहीं दी, ED ने करनी थी जांच

चारों पुलिस वालों ने बिना प्रूफ के कैश के बारे में पुलिस थाना फिल्लौर में कोई सूचना नहीं दी। कानून के अनुसार, चारों को तुरंत थाने में सूचित करना चाहिए था। जिसके बाद कैश को जब्त करके इन्फोर्समेंट डायरेक्टोरेट (ED) के हवाले किया जाता। उसके बाद जांच होती कि कहीं यह हवाला राशि या ब्लैक मनी तो नहीं है। इस वजह चारों के खिलाफ उन्हीं की ड्यूटी वाले थाने में IPC की धारा 384 और एंटी करप्शन एक्ट के तहत केस दर्ज कर लिया गया है।

कैश की भी जांच करेगी पुलिस

4 पुलिस वालों के खिलाफ केस दर्ज करने के बाद ASI हुसन लाल व ASI सुखविंदर सिंह को गिरफ्तार कर लिया गया है। बाकी दो आरोपियों कुलदीप सिंह व प्रमोद की तलाश में रेड की जा रही है। पुलिस अब इस बात की भी जांच करेगी कि जो कैश छोड़ा गया था, वह कहीं गैरकानूनी तो नहीं था। वहीं, इस कारगुजारी के सामने आने के बाद ED के अफसर भी सक्रिय हो गए हैं। थाना इंचार्ज संजीव कपूर ने बताया कि रिश्वत की रकम आरोपियों के घर से ही बरामद कर ली गई है। रिश्वत देने वालों पर भी पुलिस कड़ी कार्रवाई करेगी।

यहां लगे हाईटेक कैमरे, SSP ऑफिस में है कंट्रोल रूम

दिलचस्प बात यह है कि जिस हाईटेक नाके पर यह वारदात हुई, वहां हाईटेक सीसीटीवी कैमरे लगे हुए हैं। जिसका कंट्रोल रूम एसएसपी के ऑफिस में है। कुछ दिन पहले ही पुलिस ने यहां ऑटोमैटिक नंबर प्लेट रीडर सिस्टम (ANPRS) लगाया था। इसके जरिए हर वाहन की नंबर प्लेट की पहचान व उसके भीतर बैठे लोगों की स्कैनिंग का दावा किया गया था। दावा किया गया था कि महाराष्ट्र, बंगलुरू व कर्नाटक के बाद पंजाब में यह सिस्टम लगाया गया है। हाईटेक नाके पर 30 गुना जूम वाले दो कैमरे लगाए गए हैं, जो 360 डिग्री घूमकर काम करेंगे। हालांकि यह कैमरे अपने ही पुलिस वालों के भ्रष्टाचार को नहीं पकड़ सके।

खबरें और भी हैं...