पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जालंधर में टूटा कोरोना मरीजों का रिकॉर्ड:एक दिन में मिले 587 पॉजिटिव मरीज; अब पूरा परिवार ही आ रहा चपेट में

जालंधर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अप्रैल महीने में कोरोना से हालात चिंताजनक स्तर तक बिगड़ने लगे हैं। - प्रतीकात्मक फोटो - Dainik Bhaskar
अप्रैल महीने में कोरोना से हालात चिंताजनक स्तर तक बिगड़ने लगे हैं। - प्रतीकात्मक फोटो

जालंधर में शुक्रवार को एक दिन में 587 पॉजिटिव कोरोना मरीज मिले हैं। इनमें 502 मरीज जिले के रहने वाले हैं। कोरोना महामारी में यह पहली बार है, जब जिले में रहने वाले पॉजिटिव मरीजों का आंकड़ा 500 के पार हुआ है। सबसे चिंताजनक बात यह है कि पहले एक-दो मेंबर ही पॉजिटिव आते थे, लेकिन अब पूरा परिवार की कोरोना की चपेट में आ रहा है। उन लोगों के बाहर घूमने की वजह से संक्रमण फैलने का खतरा काफी बढ़ चुका है। शुक्रवार को कोरोना से 4 लोगों की मौत भी हुई।

जाहिर तौर पर अब जिले में कोरोना संक्रमण का खतरा चिंताजनक स्तर तक फैल चुका है। जिससे मास्क पहनने, अनावश्यक रूप से बाहर न जाने और सोशल डिस्टेंस रखने के साथ बार-बार हाथ धोने या हैंड सैनिटाइजर का इस्तेमाल करने से ही बचा जा सकता है।

परिवार चपेट में आने के यह हैं चिंताजनक हालात

अर्बन एस्टेट में एक ही परिवार के 5 मेंबर पॉजिटिव आए हैं। इसी तरह जेपी नगर, न्यू दशमेश नगर व शाहकोट के गांव सीचेवाल में एक परिवार के 4-4 मेंबर, सेंट्रल टाउन में एक परिवार से 3, मास्टर तारा सिंह नगर, मॉडल टाउन, सुभाष नगर, जसवंत नगर, राजा गार्डन से एक परिवार से 2-2 मेंबर पॉजिटिव आए हैं। हेल्थ एक्सपर्ट इसके पीछे नए यूके स्ट्रेन को वजह बता रहे हैं।

उपलब्धि पर संक्रमण का 'दाग'

जालंधर जिले में वैक्सीनेशन तेजी से चल रही है। गुरुवार को जालंधर 15473 लोगों को वैक्सीन लगा पहले नंबर पर था। उसके बाद 10807 के साथ लुधियाना था। हालांकि, प्रशासन की इस उपलब्धि पर जिले में फैले कोरोना संक्रमण का दाग लग गया है। इस लिहाज से जालंधर में कोरोना के मरीज मिल रहे हैं, उससे अप्रैल में हालात बदतर होने की आशंका से लोगों में दहशत फैल गई है।

खबरें और भी हैं...