पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जान से खिलवाड़:600 करोड़ बजट वाले निगम के पास कूड़े वाली गाड़ियों में नए टायर डलवाने के पैसे नहीं, कर्मचारियों ने ठप किया काम

जालंधर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
निगम की वर्कशॉप में खड़ी खस्ताहाल टायर वाली गाड़ियां। - Dainik Bhaskar
निगम की वर्कशॉप में खड़ी खस्ताहाल टायर वाली गाड़ियां।
  • कर्मचारी बोले- कई बार टायर फट जाते हैं तो कई पंक्चर हो चुके, अफसर 6 महीने से बैठे चुप

जालंधर के सालाना 600 करोड़ बजट वाले नगर निगम के पास कूड़े वाली गाड़ियों में नए टायर डलवाने के लिए पैसे नहीं है। यही वजह है कि कभी यह गाड़ियां पंक्चर हो जाती हैं तो कभी इनका टायर फट जाता है। गाड़ियों के स्लिप होकर पलटने का भी खतरा बना रहता है। जिसे देखते हुए मंगलवार को वर्कशॉप के कर्मचारियों की अगुवाई में कामकाज ठप कर दिया गया। कर्मचारियों ने इन गाड़ियों को चलाने से इन्कार कर दिया। इसके बाद मौके पर पहुंचे अफसर ने भरोसा दिया कि जल्द ही अच्छी कंपनी के टायर डलवा दिए जाएंगे।

कर्मचारियों को जान का खतरा, नहीं करेंगे काम

कर्मचारी यूनियन के नेता देवानंद ने कहा कि अधिकांश गाड़ियों के टायर खराब हो चुके हैं। हर वक्त खतरा बना रहता है। कूड़े के डंप में ढंग की सड़क तक नहीं है, ऐसे में खराब टायर से गाड़ी पलटने का खतरा रहता है। 6 महीने पहले इस बारे में अफसरों को लिखित में दिया गया था, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हो रही। जूनियर अफसर कह देते हैं, लेकिन कार्रवाई कोई नहीं करते। मेयर व कमिश्नर कभी हमारी परेशानी के बारे में बात नहीं करते। पुरानी गाड़ियों की मरम्मत नहीं हो रही और नई गाड़ियां नहीं दी जाती, ऐसे में कर्मचारी जान खतरे में डालकर इन्हें चलाने को मजबूर हैं। जब तक टायर नहीं डाले जाएंगे, तब तक हम काम नहीं करेंगे।

अफसरों को बता दिया, जल्द बदलवा देंगे

मौके पर पहुंचे निगम अफसर डॉ. राजकुमार ने कहा कि इस बारे में अफसरों को बताया जा चुका है। अच्छी कंपनी के टायर डलवाने की वजह से देरी हुई है। उन्होंने कर्मचारियों की मांगों को जायज बताते हुए कहा कि वो उनकी जगह होते तो यही कहते लेकिन अब उनकी समस्या जल्द हल कराई जा रही है।

खबरें और भी हैं...