फंगस की फांस:ब्लैक फंगस से 9 मौतें, 19 नए केस; लुधियाना में 6, जालंधर में 4, पटियाला में 5, मुक्तसर-अमृतसर में 2-2 मरीज

जालंधर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कोरोना के बाद अब ब्लैक फंगस के सबसे ज्यादा मामले लुधियाना में मिले हैं। - Dainik Bhaskar
कोरोना के बाद अब ब्लैक फंगस के सबसे ज्यादा मामले लुधियाना में मिले हैं।

पंजाब में ब्लैक फंगस से सोमवार को 9 मौतें हुईं। इनमें से 3 मौतें अमृतसर, 3 पटियाला और 2 मौतें लुधियाना और एक मरीज की मौत जालंधर में हुई है, जो लुधियाना का रहने वाला था। अमृतसर में जिन 3 मरीजों की ब्लैक फंगस से मौत हुई है वे कोरोना से पीड़ित थे। लुधियाना में अब तक 7 और पटियाला में 5 मौतें हो चुकी हैं। सोमवार को ब्लैक फंगस के लुधियाना में 6 नए केस, पटियाला में 5, जालंधर में 4 और मुक्सतर में 2 और अमृतसर में 2 नए मामले सामने आए हैं।

ब्लैक फंगस से अब तक 19 मौतें हो चुकी हैं। अमृतसर में मार्च से लेकर अब तक ब्लैक फंगस के 17 मामले आए हैं, जबकि अभी 9 एक्टिव हैं। लुधियाना के डीएमसी अस्पताल में 19 मरीज, सीएमसी व एसपीएस अस्पताल में 7-7, दीप अस्पताल में 4, ओसवाल अस्पताल, एसएएस ग्रेवाल और सिविल अस्पताल में 1-1 मरीज भर्ती है। सिविल अस्पताल से एक गंभीर मरीज को पटियाला रेफर भी किया गया है। सूबे में अब तक ब्लैक फंगस के 129 मामलों की पुष्टि हुई है।

राहत: सूबे में 1 महीने 11 दिन बाद आए 5 हजार से कम मरीज, मौतें भी घट रहीं

सूबे में सोमवार को नए मरीजों के मामले में राहत रही। 1 महीने 11 दिन बाद पॉजिटिव मरीजों की संख्या घटी। साेमवार को 4537 नए मरीज मिले। इससे पहले 17 अप्रैल को 4136 मरीज सामने आए थे। वहीं, सोमवार को 179 मरीजों की मौत हो गई।

अब तक कुल 13,487 मरीज संक्रमण से दम तोड़ चुके हैं। नए मामले मिलने की रफ्तार में लगातार 11वें दिन भी कमी रही। सोमवार को 6803 मरीज ठीक भी हुए, जबकि कुल 475011 मरीज अब तक ठीक हो चुके हैं। कुल संक्रमितों की संख्या सूबे में 541667 हो गई है। इस समय 55068 मरीज उपचाराधीन हैं। दूसरी ओर रिकवरी दर भी बढ़कर 86.9 हो गई है। सोमवार को सबसे ज्यादा 507 केस लुधियाना में मिले। वहीं, सबसे ज्यादा 17 मौतें पटियाला में हुईं।

कोरोना के बाद ब्लैक फंगस में भी लुधियाना टॉप पर

कोरोना के बाद अब ब्लैक फंगस के सबसे ज्यादा मामले लुधियाना में मिले हैं। लुधियाना में अब तक 39, बठिंडा में 25, अमृतसर में 17, जालंधर में 22, पटियाला में 19, मुक्तसर में 4, मोगा में 2, संगरूर में-1 केस मिल चुके हैं।

इधर, मॉडर्ना के बाद फाइजर का पंजाब को वैक्सीन देने से इनकार

चंडीगढ़ पंजाब को पहले मॉडर्ना और अब फाइजर ने भी सीधा वैक्सीन सप्लाई करने से मना कर दिया है। फाइजर ने भी सूबा सरकार को यह कहते हुए झटका दिया है कि कंपनी के नियमों के मुताबिक वह भी केवल केंद्र सरकार के साथ समझौता कर सकती है। हालांकि, वैक्सीन को लेकर फाइजर ने पंजाब के प्रयासों की सरहाना की।

वैक्सीनेशन के लिए स्टेट नोडल अधिकारी विकास गर्ग ने बताया कि फाइजर ने अपने जवाब में कहा ‘फाइजर राष्ट्रीय टीकाकरण प्रोग्राम के लिए अपना कोविड-19 टीका सप्लाई करने के लिए विश्वभर की फेडरल सरकारों के साथ काम कर रही है। फाइजर ने यह फैसला पूरे विश्व के लिए अपनाया हुआ है। राज्य सरकार अभी भी स्पूतनिक वी और जॉनसन एंड जॉनसन से सकारात्मक जवाब की उम्मीद कर रही है।

खबरें और भी हैं...