पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जीएनडीयू का रिवाइज्ड एडमिशन शेड्यूल:तीसरे-पांचवें सेमेस्टर में 5000 लेट फीस के साथ 31 अक्टूबर तक दाखिला

जालंधर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • आर्ट्स, साइंस, साेशल साइंस, एग्रीकल्चर काॅलेज, लाॅ काॅलेज, एजुकेशन काॅलेज के लिए फैसला

गुरु नानक देव यूनिवर्सिटी की ओर से तीसरे व पांचवें सेमेस्टर में दाखिला लेने वाले स्टूडेंट्स काे राहत दी गई है। एडमिशन शेड्यूल काे रिवाइज करते हुए यूनिवर्सिटी की ओर से अब तीसरे व पांचवें सेमेस्टर के दाखिले 5000 रुपए लेट फीस के साथ 31 अक्टूबर तक हो सकेंगे। यूनिवर्सिटी की ओर से जारी नाेटिफिकेशन के अनुसार यूनिवर्सिटी से संबंधित आर्ट्स, साइंस, साेशल साइंस, एग्री कल्चर काॅलेज, लाॅ काॅलेज, एजुकेशन काॅलेज, यूनिवर्सिटी काॅलेज व विभिन्न कंस्टीट्यूएंट काॅलेज में ये फैसला लागू हाेगा।

जबकि इससे पहले संबंधित काॅलेजों में दाखिले का प्राेसेस अगस्त महीने में ही शुरू हाे गया था। तीसरे व पांचवें सेमेस्टर के स्टूडेंट्स के लिए 6 अक्टूबर तक 5 हजार रुपए लेट फीस के साथ एडमिशन थी। सात अक्टूबर या इसके बाद दाखिले पर 25 हजार रुपए फाइन था लेकिन यूजीसी की ओर से दाखिले 31 अक्टूबर तक करवाने के आदेश दिए गए थे। फीस बढ़ने का विद्यार्थियों में काफी तनाव था। उन्होंने फीस कम करने की मांग भी रखी थी।

सात अक्टूबर के बाद था भारी फाइन, अब विद्यार्थियों को मिली राहत

दैनिक भास्कर की ओर से विद्यार्थियों की इस परेशानी काे यूनिवर्सिटी के सामने लाया गया था। इसकाे ध्यान में रखते हुए यूनिवर्सिटी ने ये फैसला लिया है। यूनिवर्सिटी ने साफ किया है कि 31 अक्टूबर के बाद दाखिले की डेट नही बढ़ाई जाएगी, इसलिए विद्यार्थी तय समय तक दाखिला ले लें। प्रिंसिपल एसाेसिएशन के प्रधान खालसा काॅलेज के प्रिंसिपल डाॅ. गुरपिंदर सिंह समरा ने वीसी डाॅ. जसपाल सिंह संधू का धन्यवाद किया। सिंडीकेट की प्रवानगी से 25 हजार फाइन के साथ ही पहले दाखिला हाे सकता था लेकिन अब 31 अक्टूबर तक 5000 रुपए फाइन देकर दाखिला ले सकते हैं।

जीएनडीयू काॅलेज में वाेकेशनल कोर्स शुरू

जीएनडीयू कॉलेज, लाडोवाली रोड में यूजीसी की तरफ से एनएसक्यूएफ तहत नए कोर्स इस अकादमिक वर्ष से शुरू किए जा रहे हैं। ओएसडी डॉ. कमलेश सिंह दुग्गल ने बताया कि कॉलेज में बी वाॅक (रिटेल मैनेजमेंट, फाइनेंशियल मार्केट, ई कॉमर्स एंड डिजीटल मार्केटिंग और फोटोग्राफी एंड जर्नलिज्म) कोर्स शुरू किए गए हैं। इन कोर्सों की विशेषता है कि विद्यार्थियों को तीन साल के कोर्स के दौरान सर्टिफिकेट, डिप्लोमा और डिग्री मिलेंगे।

खबरें और भी हैं...