पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Jalandhar
  • After The Egg Rider, The Two Including The Wood Mason Were Duped On The Pretext Of Sending Them To Canada On A Work Permit

सरकारी स्कूल टीचर का कबूतरबाज पति:लकड़ी के मिस्त्री समेत दो को वर्क परमिट पर कनाडा भेजने के बहाने ठगा; अंडे की रेहड़ी वाले से भी कर चुका है ठगी

जालंधर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पुलिस ने आरोपी ट्रैवल एजेंट के खिलाफ थाना शाहकोट में केस दर्ज कर गिरफ्तारी की कार्रवाई शुरू कर दी है। - Dainik Bhaskar
पुलिस ने आरोपी ट्रैवल एजेंट के खिलाफ थाना शाहकोट में केस दर्ज कर गिरफ्तारी की कार्रवाई शुरू कर दी है।

शाहकोट के सरकारी स्कूल टीचर के कबूतरबाज पति ने अंडे की रेहड़ी वाले के बाद अब लकड़ी के मिस्त्री समेत दो को ठग लिया। उन्हें कनाडा में वर्क परमिट पर भेजकर अच्छी कमाई का सपना दिखाकर इस ठगी को अंजाम दिया गया। हालांकि आरोप कबूतरबाज आरोपी की सरकारी टीचर पत्नी पर भी थे लेकिन पुलिस ने इन दो मामलों में उन्हें क्लीन चिट दे दी। ट्यूशन पढ़ाने वाले आरोपी पति पर ठगी व ट्रैवल एक्ट का केस दर्ज कर लिया गया है।

दुबई से लौटा था, टीचर बोली- यहां क्यों जिंदगी बर्बाद कर रहा और ठग लिया

गांव धर्मीवाल के हरदेव सिंह ने बताया कि उसका बेटा सतविंदर सिंह कुछ समय दुबई रहकर आया था। इसके बाद वह सरकारी टीचर सलोनी तूर के घर पर लकड़ी का काम करने लगा। तब सलोनी ने उसे कहा कि वह अपनी जिंदगी यहां क्यों बर्बाद कर रहा है, उसे कनाडा भेज देते हैं। फिर वह पिता के साथ सलोनी के पति प्रितपाल तूर उर्फ बिट्‌टू निवासी इंप्लाइज कॉलोनी ढंडोवाल रोड को मिला। जिसने 3-4 महीने में वर्क परमिट पर कनाडा भेजने के लिए 18.50 लाख रुपए मांगे।

इसके बाद एडवांस व बाकी काम के लिए उसने प्रितपाल व उसके रिश्तेदार लुधियाना के नीरज अत्तर को 2.41 लाख रुपए दिए। उन्होंने सतविंदर को कनाडा नहीं भेजा। इसके बाद नीरज ने तो पैसे वापस लौटा दिए लेकिन प्रितपाल ने 1.56 लाख हड़प कर लिए। सलोनी ने पैसे नहीं लिए थे, इसलिए उसे क्लीन चिट दे दी गई।

बेटे को कनाडा का सपना दिखा ठगा

नकोदर के पुराना मलशियां रोड के राकेश कुमार शर्मा ने कहा कि उसके बेटे साहिल को कनाडा भेजने के लिए प्रितपाल तूर से 10 लाख में सौदा किया था। इसके बाद उसने एक लाख नकद व 20 हजार रुपए मेडिकल करवाने के लिए दिए। प्रितपाल तूर ने इसके लिए 4 महीने का वक्त लिया था लेकिन न उसके बेटे को कनाडा भेजा और न ही पैसे वापस किए। इस मामले में भी पुलिस ने सरकारी स्कूल टीचर को यह कहते हुए क्लीन चिट दे दी कि न तो उसने पैसे लिए और न ही उसके ट्रैवल एजेंटी में शामिल होने का कोई सबूत मिला है।

खबरें और भी हैं...