• Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Jalandhar
  • Asked The Regional Transport Secretary To Shift The Room On The First Floor; RTA Clerk Said: 20 Lakhs Spent, How To Vacate Like This

जालंधर DC कांप्लेक्स में आफिस को लेकर घमासान:रीजनल ट्रांसपोर्ट सेक्रेटरी को पहली मंजिल का कमरा शिफ्ट करने को कहा; RTA के क्लर्क बोले : 20 लाख खर्च किए, ऐसे कैसे खाली कर दें

जालंधर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आरटीए के फंड से आफिस में बनाए गए केबिन व नीचे लगाई गई टाइल्स। - Dainik Bhaskar
आरटीए के फंड से आफिस में बनाए गए केबिन व नीचे लगाई गई टाइल्स।

जालंधर के डीसी कांप्लेक्स में एक आफिस को लेकर घमासान मच गया है। यह आफिस फिलहाल रीजनल ट्रांसपोर्ट अथॉरिटी (RTA) के पास है। प्रशासनिक अफसर ने अपनी जरूरत बताते हुए इसे शिफ्ट करने को कह दिया है। हालांकि RTA आफिस के क्लर्क भी अड़ गए हैं कि हमने 20 लाख खर्च कर इसे संवारा, अब कैसे खाली कर दें। आरटीए सेक्रेटरी ने भी क्लर्कों की बैठक बुलाई थी लेकिन उसमें भी कर्मचारी अड़े रहे। पूरा मामला अब अफसरों के बीच का विवाद बनता जा रहा है।

डीसी कांप्लेक्स की पहली मंजिल में कैंटीन के सामने आरटीए का आफिस है। साल 2003 में जब आरटीए आफिस इस कांप्लेक्स में शिफ्ट हुआ तो यह कमरा भी उन्हें मिल गया। अभी इसमें क्लर्क बैठते हैं। इसके अलावा दोनों तरफ ट्रैफिक चालान भरने वाली खिड़कियां बनी हुई हैं। अब उन्हें शिफ्ट कर कमरा नंबर 120 में जाने को कह दिया गया है। इस कमरे में अभी रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट (RC) बनाने का काम चलता है। प्रशासन के ही एडीसी स्तर के अफसर ने सेक्रेटरी जल्द से जल्द इसे खाली करने कह दिया है।

इसी कमरा नंबर 120 में आरटीए को आफिस शिफ्ट करने के लिए कहा जा रहा है।
इसी कमरा नंबर 120 में आरटीए को आफिस शिफ्ट करने के लिए कहा जा रहा है।

क्लर्कों की नाराजगी : AC हमने लगाए, डाउन सीलिंग व केबिन बनवाए

आरटीए आफिस के कुछ क्लर्कों ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि जब हमें शिफ्ट किया गया तो यहां कोई सुविधा नहीं थी। इसके बाद हमने आरटीए के फंड से करीब 20 लाख रुपए खर्च कर यहां केबिन बनाए। डाउन सीलिंग कराई और केबिन बनाए। जिसके बाद इसे बैठने लायक बनाया। चालान खिड़की का बंदोबस्त किया। ऐसे में इसे हम खाली नहीं करेंगे।

चुनावी बहाना बना खाली कराया जा रहा आफिस

आरटीए आफिस के कर्मचारियों के मुताबिक चुनावी कामकाज के बहाने से आफिस को खाली कराया जा रहा है। हालांकि पहले भी चुनाव होते रहे हैं और सारा काम ठीक चलता रहा है। कभी भी आफिस को लेकर परेशानी नहीं हुई। ऐसे में बहानेबाजी कर आफिस को निशाना बनाया जा रहा है।

खबरें और भी हैं...