पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना के साथ डेंगू और वायरल भी:मच्छरों से बचिए, 64 लोगों को डेंगू, वायरल फीवर के कारण 10 में से 7 मरीजों के कम हुए प्लेटलेट्स

जालंधर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सिविल अस्पताल में पर्ची बनवाने के लिए खड़े मरीज और उनके परिजन।-भास्कर - Dainik Bhaskar
सिविल अस्पताल में पर्ची बनवाने के लिए खड़े मरीज और उनके परिजन।-भास्कर
  • जिले में किए गए 227 टेस्ट, सिविल में बढ़े मरीज

कोरोनावायरस की रफ्तार कम होने के बाद जिला सेहत विभाग की तरफ से अब डेंगू की टेस्टिंग बढ़ाने के लिए तैयारी की जा रही है। सिविल अस्पताल की ओपीडी शुरू होने के बाद अस्पताल में कई मरीजों को बुखार की पुष्टि हो रही है। वहीं डॉक्टरों का कहना है कि इसके साथ ही कई मरीजों को कमजोरी की समस्या भी सामने आ रही है।

जिला एपिडिमोलॉजिस्ट डॉ. सतीश कुमार का कहना है कि सिविल अस्पताल के मेडिसिन स्पेशलिस्ट डॉक्टरों को कहा गया है कि अस्पताल में आने वाले बुखार और वायरल के मरीजों के डेंगू के टेस्ट करवाए जाएं। जिला इंटीग्रेटेड डिसीज सर्विलांस प्रोग्राम (आईडीएसपी) लैब की रिपोर्ट के मुताबिक जिले के प्राइवेट और सरकारी अस्पताल से आए डेंगू के 227 टेस्ट किए जा चुके हैं, जिनमें से 64 मरीजों को डेंगू की पुष्टि हो चुकी है।

इनमें से 30 मरीज जिले के बताए जा रहे हैं। इससे पहले वीरवार को आई 27 मरीजों की रिपोर्ट में से जालंधर के कितने हैं और बाहरी जिलों के कितने मरीज हैं, इसकी अभी सेहत विभाग की तरफ से सूची तैयार नहीं की गई है। बता दें डेंगू के ज्यादा टेस्ट अभी प्राइवेट अस्पताल से ज्यादा आ रहे हैं, जिसका प्रमुख कारण सिविल अस्पताल ईएसआई में शिफ्ट होने के कारण मरीज भटक रहे थे।

ईएसआई अस्पताल और सिविल अस्पताल में वायरल बुखार के मरीजों की तादाद ज्यादा है। अधिकतर मरीजों को थकान और शरीर टूटने की शिकायत आ रही है। ब्लड टेस्ट की रिपोर्ट में यह बात सामने निकल कर आ रही है कि वायरल बुखार की वजह से 10 मरीजों के पीछे 7 मरीजों के प्लेटलेट्स कम हो रहे हैं। जिला एपिडिमॉलोजिस्ट डॉ. सतीश कुमार का कहना है कि लोगों को इन दिनों में पूरी बाजू के कपड़े पहनकर बाहर जाना चाहिए। अनावश्यक स्थानों पर जाने से परहेज करें और घरों में कहीं भी पानी न इकट्ठा होने दें।

डेंगू के लक्षण
1. तेज बुखार
2. सिरदर्द
3. उल्टी
4. मांसपेशियों तथा हड्डियों में दर्द
5. त्वचा पर निशान
6. गले में हल्का दर्द होना

बरतें एहतियात

1. ठंडा पानी न पीएं, मैदा और बासी खाना न खाएं। 2. खाने में हल्दी, अजवाइन, अदरक, हींग का ज्यादा इस्तेमाल करें। 3. पत्ते वाली सब्जियां, अरबी, फूलगोभी न खाएं। 4. हल्का खाना खाएं, जो आसानी से पच सके। 5. पूरी नींद लें, उबला पानी ठंडा करके ज्यादा से ज्यादा पीएं। 6. मिर्च मसाले/तला हुआ न खाएं, जरूरत से कम खाएं। 7. छाछ, नारियल पानी, नीबू पानी का सेवन करें।

खबरें और भी हैं...