पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

लोगों से अंधेरे में ही ली गई ड्राइविंग ट्राई:आरटीए कार्यालय में बड़ा झोल, लाइसेंसों की पेंडेंसी के बाद टैक्स देने वाले हेवी व्हीकल्स कर दिए ब्लैकलिस्ट

जालंधर20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
देर शाम 7:15 बजे तक लाइसेंस के लिए होते रहे ड्राइविंग टेस्ट, लोगों से अंधेरे में ही ली गई ड्राइविंग ट्राई - Dainik Bhaskar
देर शाम 7:15 बजे तक लाइसेंस के लिए होते रहे ड्राइविंग टेस्ट, लोगों से अंधेरे में ही ली गई ड्राइविंग ट्राई

आरटीए कार्यालय में सब कुछ ठीक नहीं है। प्राइवेट कारिंदों और एजेंट्स का जाल इस कदर फैल चुका है कि खुद आरटीए ही उन्हें पकड़ नहीं पा रहे हैं। आरटीए बरजिंदर सिंह के जाने के बाद आरटीए का अतिरिक्त चार्ज एसडीएम-1 हरप्रीत सिंह अटवाल को दिया है। लेकिन लंबे समय से आरटीए कार्यालय में लोगों की समस्या कम होने के बजाय बढ़ती जा रही हैं।

पहले आरटीए की आईडी लेट जेनरेट होने से लाइसेंस की पेंडेंसी बढ़ गई थी और बैकलाॅग की समस्या से भी लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा था। वहीं अब आरटीए के इंटरनल हालात खराब हैं क्योंकि कई हेवी व्हीकल जिन्होंने सभी टैक्स जमा करवाया है उन्हें ब्लैकलिस्ट किया जा रहा है और जिन्होंने टैक्स नहीं जमा करवाया उन्हें लाइफ टाइम टैक्सपेयर किया जा रहा है।

एक तरफ, प्रशासन की तरफ से लोगों को एजेंट्स से सावधान रहने के लिए कहा जाता है तो दूसरी तरफ, सेक्रेटरी आरटीए कार्यालय में ही एजेंट्स की भरमार है। आरटीए कार्यालय के हालात यह है कि कारिंदे ही सरकारी रिकार्ड की एंट्री से लेकर सारा काम संभाल रहे हैं। न लाइसेंस को अप्रूवल मिल रही है और न ही बैकलॉग का काम कंप्लीट किया जा रहा है।

दोपहर 3 बजे तक ट्रैक पर काम बंद

ड्राइविंग ट्रैक पर लाइसेंस बनवाने के लिए ट्राई देने पहुंचे लोगों को भारी समस्या का सामना करना पड़ा क्योंकि सूबे में ऑफिशियल वेबसाइट बंद होने के चलते लोगों को परेशानी हुई। ड्राइविंग ट्रैक पर दोपहर करीब 3 बजे के बाद काम शुरू हुआ और बारिश के चलते काम रोकना पड़ा। सोमवार देर रात 7:30 बजे तक लोग गाड़ियों के साथ ट्राई देने के लिए बैठे रहे। अंधेरे में लोगों से ड्राइविंग ट्राई ली जा रही है। इसे लेकर पहले ही विवाद हो चुका है। लोगों का आरोप है कि जब सरकारी काम 5 बजे तक है तो फिर लेट नाइट क्यों ड्राइविंग ट्रैक पर काम किया जाता है।

प्रशासकीय कांप्लेक्स में शिफ्ट होंगे एडीसी
एडीसी (डेवलपमेंट) हिमांशु जैन जो अभी मास्टर तारा सिंह नगर में डिप्टी डायरेक्टर लोकल गवर्नमेंट के आफिस में बैठते है उन्हें जल्द जिला प्रशासकीय कांप्लेक्स में शिफ्ट किया जा सकता है। इसके लिए सेक्रेटरी आरटीए आफिस में बने आफिस को भी इस्तेमाल किया जा सकता है और आरटीए के कुछ आफिस को डीटीओ आफिस और 120 नंबर कमरे में शिफ्ट करने की चर्चा चल रही है। एडीसी (डेवलपमेंट) के अंडर शहर का बड़े विकास कार्य चल रहे हैं और उन्हें जिला प्रशासकीय कांप्लेक्स के अंदर ही आफिस देना प्राथमिकता है।

खबरें और भी हैं...