जालंधर में अवैध शराब फैक्ट्री मामला:अग्रिम जमानत रिजेक्ट होने के बाद भाजपा नेता ने सरेंडर किया, पुलिस थाने नहीं अफसरों के पास पहुंचा

जालंधर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आरोपी अंगुराल बंधु। - Dainik Bhaskar
आरोपी अंगुराल बंधु।

अवैध शराब फैक्ट्री के आरोपों से घिरे भाजपा नेता राजन अंगुराल ने पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया है। मंगलवार को राजन अंगुराल के साथ भाई शीतल अंगुराल की भी अग्रिम जमानत की याचिका को कोर्ट ने रिजेक्ट कर दिया है। उन पर आदमपुर की नूरपुर-धोगड़ी रोड के नए इंडस्ट्रियल जोन में अवैध शराब फैक्ट्री चलाने का आरोप है। इस मामले में पुलिस ने उनके खिलाफ अवैध शराब बनाने के साथ हत्या की कोशिश का केस दर्ज किया था। थाना आदमपुर के SHO हरजिंदर सिंह ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि राजन अंगुराल ने अफसरों के समक्ष सरेंडर किया है। उन्हें इसकी सूचना दे दी गई है और थाने में दर्ज केस के मामले में अगली कार्रवाई के लिए वो अफसरों के पास जा रहे हैं।

यह है मामला

चंडीगढ़ से आई एक्साइज टीम व पुलिस ने करीब 2 हफ्ते पहले नूरपुर-धोगड़ी रोड पर रेड की थी। यहां से अवैध शराब फैक्ट्री पकड़ने का दावा किया गया था। पुलिस व एक्साइज अफसरों का कहना था कि वहां शराब की भराई के लिए बॉटलिंग चैन लगी हुई थी। इसके अलावा शराब स्टोर करने के लिए प्लास्टिक की टंकियां, एक प्लास्टिक पाइप, शराब की पैकिंग वाले डिब्बे के साथ 750 ML की खाली प्लास्टिक की बोतलें मिलीं। इनकी बनावट मैलब्रोस के कैश ब्रांड वाली शराब से मेल खाली थी। वहां से 11,990 बोतलें, 3,840 गत्ते के डिब्बे बरामद किए। इसके बाद वहां अंगुराल बंधुओं ने पुलिस से बहस के साथ हाथापाई भी की। इस मामले में पहले फ्रॉड का केस दर्ज हुआ, लेकिन बाद में इसमें पुलिस ने कातिलाना हमले की धारा भी जोड़ दी। इसके बाद अंगुराल बंधु अग्रिम जमानत के लिए कोशिश कर रहे थे।

आरोपियों ने कहा था- सैनिटाइजर की फैक्ट्री लगा रहे थे

हालांकि राजन अंगुराल, शीतल अंगुराल और सन्नी अंगुराल का दावा है कि वहां पर सैनिटाइजर की फैक्ट्री लगा रहे थे। राजनीतिक कारणों से उन्हें फंसाया जा रहा है। उन्होंने इसके खिलाफ नेशनल SC कमीशन को भी शिकायत की थी। हालांकि सैनिटाइजर बनाने का लाइसेंस के लिए अप्लाई न किए जाने के बाद पुलिस ने इसे तवज्जो नहीं दी।

खबरें और भी हैं...