पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कल के लिए तैयारी:वर्दी के साथ बच्चाें काे मिलेंगे दाे-दाे मास्क, जिले के 92004 विद्यार्थियों के लिए 5.52 करोड़ रुपए का बजट हुआ जारी

जालंधर18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
जिले में विद्यार्थियों की संख्या को देखते हुए ही बजट जारी किया गया है। - Dainik Bhaskar
जिले में विद्यार्थियों की संख्या को देखते हुए ही बजट जारी किया गया है।
  • समग्र शिक्षा अभियान के तहत प्रति स्टूडेंट वर्दी पर खर्च होंगे 600 रुपए

समग्र शिक्षा अभियान के तहत सरकारी स्कूलाें में पहली से आठवीं तक सभी लड़कियाें और एससी-एसटी-बीपीएल लड़काें काे मुफ्त में वर्दियां दी जाएंगी। प्रदेश सरकार ने जालंधर जिले के िलए 5 करोड़ 52 लाख रुपए जारी किए हैं। इस बजट में 92,004 विद्यार्थियों को वर्दियां दी जाएंगी। जिले में 92,004 स्टूडेंट्स में से 49,182 लड़कियां हैं। 32,067 अनुसूचित जाति के लड़के और 10,755 बीपीएल वर्ग के लड़के हैं। वर्दियां स्कूल मैनेजमेंट कमेटी के स्तर पर मिलेंगी। स्कूल अध्यापक बच्चों को उनके घर पर ही वर्दी पहुंचाएंगे।

चिंता न करें, अध्यापक बच्चों के घर पहुंचाएंगे मुफ्त वर्दी

जिले में इस समय पहली से आठवीं क्लास तक के विद्यार्थियों की गिनती 1,09,832 से ज्यादा है। इनमें से 92,004 विद्यार्थियों को वर्दियां दी जाए‌ंगी। जिले में विद्यार्थियों की संख्या को देखते हुए ही बजट जारी किया गया है। प्रति स्टूडेंट 600 रुपए दिए जाएंगे।

काेविड-19 के मद्देनजर निर्देश दिए गए हैं कि वर्दी के कपड़े में से बचने वाले कपड़े के दाे-दाे मास्क बनाकर उपलब्ध करवाए जाएं। प्राइमरी क्लास की लड़कियाें के लिए पेंट शर्ट या सूट-सलवार और दुपट्टा, अपर प्राइमरी के लिए सूट-सलवार-दुपट्टा, लड़काें के लिए पेंट-कमीज, सिख लड़कों के लिए पटका व अन्य के लिए टाेपियां बनवाई जाएंगी। जूते-जुराबें और गर्म स्वेटर भी दिया जाएगा।

नाप के लिए स्टूडेंट्स काे स्कूल न बुलाएं

विभाग की ओर से निर्देश हैं कि वर्दी के नाप के लिए विद्यार्थियों को स्कूल न बुलाया जाए ताकि कोरोना से बचाव रहे। पैरेंट्स से नाप लेकर वर्दी सिलाई जाए। इस बात को यकीनी बनाया जाए कि ड्रेस बच्चे के नाप की ही हो।

वर्दी देने के बाद अभिभावकों से साइन करवाए जाएंगे। डीईओ या बीपीईओ द्वारा स्कूल कमेटी काे किसी विशेष दुकान से वर्दी खरीदने के लिए निर्देश नहीं दिए जाएंगे।

खबरें और भी हैं...