पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सीबीएसई रिजल्ट +2:पहले-दूसरे स्थान पर कॉमर्स, तीसरे पर मेडिकल स्टूडेंट, नॉन मेडिकल से आगे निकली ह्यूमैनिटीज

जालंधर10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • पिछले पांच वर्षों में कॉमर्स का सबसे बेहतरीन रिजल्ट, नॉन मेडिकल स्ट्रीम सबसे पीछे रही
  • कॉमर्स आभ्या अरोड़ा 99%, कॉमर्स ईशा जिंदल 98.6%, मेडिकल नवदीप 98.4%

(पूजा सिंह/भारती शर्मा) सीबीएसई बारहवीं का रिजल्ट सोमवार को घाेषित किया गया। इस बार काेराेना संक्रमण के कारण परीक्षाएं बीच  में ही रद्द कर दी गई थीं। मेडिकल व नाॅन मेडिकल स्ट्रीम की सारी परीक्षाएं हाे गई थी। जबकि काॅमर्स की बिजनेस स्टडीज, ह्यूमैनिटीज की हिंदी व ज्याेग्राफी के पेपर पेंडिंग थे। 
एमजीएन पब्लिक स्कूल अर्बन एस्टेट की काॅमर्स स्ट्रीम की आभ्या अराेड़ा ने 99 फीसदी अंक लेकर जिले में पहला स्थान हासिल किया है। वहीं, इसी स्ट्रीम की इनाेसेंट हार्ट्स स्कूल की ईशा जिंदल 98.6 फीसदी अंक लेकर दूसरे स्थान पर रही। तीसरे स्थान पर मेडिकल स्ट्रीम की डीएवी डीआरवी स्कूल फिल्लाैर की नवदीप काैर 98.4 फीसदी अंक लेकर रहीं।

इस बार टाॅप थ्री रैंकर में नाॅन मेडिकल स्ट्रीम से एक भी स्टूडेंट नहीं है। वहीं नॉन मेडिकल से ह्यूमैनिटीज आगे निकल गया है।  दिल्ली पब्लिक स्कूल की अनुष्का ने ह्यूमैनिटीज स्ट्रीम में 98.2 फीसदी अंक हासिल किए। इन स्टूडेंट्स का कहना है कि मेहनत ने यह मुकाम दिलाया है।

एक्सपर्ट व्यू: इस बार असेसमेंट स्कीम का कॉमर्स व ह्यूमैनिटीज के स्टूडेंट्स को फायदा मिला

एमजीएन पब्लिक स्कूल के प्रिंसिपल जतिंदर सिंह कहते हैं-पहली बार हुआ है कि ह्यूमैनिटीज स्टूडेंट्स के अंक नाॅन मेडिकल स्टूडेंट से आगे रहे। कह सकते हैं कि इस बार असेसमेंट स्कीम का काॅमर्स व ह्यूमैनिटीज स्ट्रीम के स्टूडेंट्स काे फायदा हुआ। चूंकि इतने साल से कभी नाॅन मेडिकल ताे कभी काॅमर्स स्ट्रीम से ही जिले का टाॅपर हाेता था। इस बार नाॅन मेडिकल स्ट्रीम सबसे पीछे रही। इस स्ट्रीम के सारे पेपर हाे गए थे।
पहली बार कॉमर्स में 99% अंक
पांच साल का डेटा देखें ताे पहली बार काॅमर्स में किसी स्टूडेंट ने 99 फीसदी अंक पाए। पिछले साल नाॅन मेडिकल के रजस भट्ट ने 99% अंक हासिल करके टाॅप किया था। काॅमर्स टाॅपर हिमांशु छाबड़ा व काव्या के 98% अंक, मेडिकल टाॅपर हरमनदीप काैर राय के 97.2%, ह्यूमैनिटीज टाॅपर स्वाति के 98.2% अंक थे। साल 2018 में काॅमर्स टाॅपर गुरसिमरन सिंह कालड़ा के 98.2% अंक थे। मेडिकल की अंबरीन देयाेल, महक यादव, नाॅन मेडिकल के समर्थ सिंह के 97% अंक रहे। ह्यूमैनिटीज की हर्षिता शारदा के 96.8 जबकि साल 2018 में ह्यूमैनिटीज टाॅपर के 96.2% अंक थे।

पढ़ाई काे बाेझ नहीं माना, खाली समय में नाॅवेल पढ़े, पेंटिंग्स बनाईं

जेपी नगर की रहने वाली आभ्या ने बताया कि पढ़ाई काे हमेशा सकारात्मक साेच के साथ पढ़ा, कभी बाेझ नहीं लिया। दसवीं में आईसीएसई बाेर्ड में भी 99 फीसदी अंक लेकर ऑल इंडिया तीसरा रैंक प्राप्त किया था। मुझे पेंटिंग का शाैक है और नाॅवेल पढ़ना भी पसंद है। काेई भी दिन ऐसा नहीं है जब नाॅवेल न पढ़ा हाे। यही कारण है कि जिंदगी में हमेशा पॉजिटिव रहती हूं। कभी आधी रात तक पढ़ाई नहीं की। शेड्यूल रहा है कि सुबह 9 बजे से रात 11 बजे तक पढ़ाई करती थी। प्रिंसिपल जतिंदर सिंह, टीचर्स माेनिका, अनामिका, अंजलि, राज का काफी सहयाेग रहा। उन्हाेंने हमेशा सिखाया अपना बेस्ट कराे। आगे दिल्ली यूनिवर्सिटी में बीकाॅम में दाखिला लेना है।

मेरी आंखों की रोशनी मेरे गुरु हैं टॉकिंग्स बुक्स के जरिये पढ़ाते हैं

बचपन से ही ध्रुव के आंखाें की राेशनी काफी कम थी। साढ़े तीन साल का था तो आंखों की राेशनी बिल्कुल चली गई। ध्रुव काॅमर्स स्ट्रीम में थर्ड जबकि ओवरऑल जिले में फोर्थ रहा है। दसवीं में 93.2 फीसदी अंक हासिल किए तो इस बार जिले में दूसरे स्थान पर रहा। ध्रुव ने बताया- पढ़ाई की शुरुआत राष्ट्रीय अंधविद्यालय से की थी।

आठवीं के बाद एचएमवी में संगीत के प्रोफेसर डाॅ. प्रेम सागर ने कहा कि एडमिशन किसी प्राइवेट स्कूल में करवा दाे। एमजीएन अर्बन एस्टेट में प्रिंसिपल सर का बहुत सहयाेग रहा। टाॅकिंग बुक्स के जरिये टीचर्स ने मुझे पढ़ाई करवाई। सक्षम साेसायटी की दीपिका सूद व डाॅ. प्रेम सागर ने पढ़ाई में मदद की। हरिवल्लभ संगीत सम्मेलन में जूनियर कैटेगरी में पहले स्थान पर रहा था।

ट्रेन हादसे से टांग कटी, हाैसला नहीं हारा, 81 फीसदी अंक लिए

पिता के साथ ट्रेन से आ रहा था। ट्रेन रुकने ही वाली थी कि अचानक झटका लगा और मैं नीचे गिर गया। टांग ट्रेन के पहियाें में फंस गई। पिता हवलदार शैलेष कुमार सिंह ने जैसे-तैसे खींच कर टांग निकाली लेकिन इतना भयानक एक्सीडेंट था कि टांग काटनी पड़ी। करीब चार महीने अस्पताल में ही रहा। बारहवीं नाॅन मेडिकल में 81 फीसदी अंक हासिल करने वाले हिमांशु ये बताते बताते इमाेशनल हाे गए।

कहने लगे- वाे मंजर आज भी आंखाें के सामने जब आता हैं ताे साेचता हूं काश मैं बच जाता। लेकिन आर्मी मैन का बेटा हाेने के कारण शायद हाैसला व जज्बा मेरे खून में ही था। मैंने बारहवीं क्लास में दाखिला लेने का साेचा। मां नीना सिंह व पिता थाेड़ा चिंतित हुए पर वे जानते थे कि जाे बात मैंने ठानी है, वाे जरूर करूंगा। मूलरूप से पुणे के हिमांशु ने कहा कि वे आगे बीएससी एग्रीकल्चर करना चाहते हैं।

प्रिंसिपल डाॅ. सक्षम सिंह बताती हैं- स्कूल में बारहवीं का सेशन शुरू हुआ ताे वह पूरी तरह से ठीक नहीं था लेकिन उसने अपने माता-पिता से कहा कि स्कूल जाना चाहता है। पैरेंट्स ने मना किया तो उसने पार्क में अपने एक्सरसाइज करते हुए की वीडियाे मैनेजमेंट व टीचर्स काे भेजी और कहा कि देखाे मैं स्कूल आ सकता हूं। हमने ग्राउंड फ्लाेर पर ही उसकी क्लासेस लगानी शुरू कीं। उसका दाेस्त उसे घर से ले आता था। इलाज के लिए पुणे व दिल्ली भी गया। आर्टिफिशियल लेग लगवाई।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज घर के कार्यों को सुव्यवस्थित करने में व्यस्तता बनी रहेगी। परिवार जनों के साथ आर्थिक स्थिति को बेहतर बनाने संबंधी योजनाएं भी बनेंगे। कोई पुश्तैनी जमीन-जायदाद संबंधी कार्य आपसी सहमति द्वारा ...

    और पढ़ें