कांग्रेस-अमरिंदर में खुली जंग:कैप्टन की पाकिस्तानी दोस्त अरूसा आलम के ISI कनेक्शन की जांच करेगी पंजाब सरकार

जालंधर2 महीने पहले
  • डिप्टी CM रंधावा ने कहा- अरूसा चंडीगढ़ के सरकारी रेजिडेंस में रहीं, इसकी जांच जरूरी
  • कैप्टन के खास लोगों के बैंक खातों की जांच हो, पैसे के लेन-देन में ISI के रोल की भी जांच हो

पंजाब में कांग्रेस और कैप्टन अमरिंदर सिंह के बीच खुली जंग शुरू हो गई है। कांग्रेस ने इसमें अमरिंदर की पाकिस्तानी मित्र अरूसा आलम को भी घसीट लिया है। डिप्टी CM और गृह मंत्री सुखजिंदर रंधावा ने कहा कि अरूसा आलम के ISI कनेक्शन की जांच की जाएगी। इसके लिए वे DGP इकबालप्रीत सहोता को निर्देश दे रहे हैं। रंधावा ने कहा कि अरूसा के बारे में कई बातें सामने आई हैं, जिनकी जांच जरूरी है।

कैप्टन अमरिंदर सिंह के साथ पाकिस्तानी पत्रकार मित्र अरूसा आलम।
कैप्टन अमरिंदर सिंह के साथ पाकिस्तानी पत्रकार मित्र अरूसा आलम।

रंधावा ने अमरिंदर पर सवाल उठाए कि साढ़े 4 साल सब कुछ ठीक रहा। जैसे ही CM की कुर्सी छिनी, तो पंजाब को पाकिस्तान से खतरा हो गया। ISI से यह खतरा तब क्यों नहीं था, जब पाकिस्तानी पत्रकार अरूसा आलम उनके चंडीगढ़ स्थित सरकारी रेजिडेंस में रही। अमरिंदर की नई पार्टी के ऐलान से पहले इसे कांग्रेस की दबाव बनाने की रणनीति से जोड़कर देखा जा रहा है।

डिप्टी CM सुखजिंदर रंधावा के साथ कांग्रेसी MLA कुलबीर जीरा।
डिप्टी CM सुखजिंदर रंधावा के साथ कांग्रेसी MLA कुलबीर जीरा।

अरूसा की जांच के आदेश को लेकर रंधावा बरसे अमरिंदर
अरूसा आलम के ISI कनेक्शन की जांच पर कैप्टन अमरिंदर सिंह की प्रतिक्रिया आई है। अमरिंदर ने डिप्टी CM रंधावा को कहा कि अब वह पर्सनल अटैक पर आ गए हैं। अमरिंदर ने पूछा कि पद संभालने के एक महीने बाद लोगों को दिखाने के लिए क्या उनके पास यही कुछ है। कैप्टन ने पूछा कि आपके बरगाड़ी बेअदबी और ड्रग केसों के बड़े वादों का क्या हुआ? पंजाब अभी तक आपके कार्रवाई के वादे का इंतजार कर रहा है।

जब मेरी सरकार में मंत्री थे, तब कोई शिकायत नहीं की
अमरिंदर ने सुखजिंदर रंधावा को कहा कि वह उनकी कैबिनेट में मंत्री थे। तब कभी अरूसा आलम के खिलाफ शिकायत नहीं की। अरूसा आलम पिछले 16 वर्षों से भारत सरकार की क्लीयरेंस से यहां आ रही हैं। अमरिंदर ने पूछा कि क्या वो NDA और कांग्रेस की अगुवाई वाली UPA सरकार पर आरोप लगा रहे हैं कि दोनों सरकारें पाकिस्तानी ISI के साथ मिली हुईं थी।

पंजाब में फेस्टिव सीजन में बड़े आतंकी खतरे की आहट
अमरिंदर ने कहा कि मुझे चिंता इस बात की है कि पंजाब में बहुत बड़ा आतंकी खतरा मंडरा रहा है और फेस्टिवल सीजन आने वाला है। ऐसे वक्त में लॉ एंड ऑर्डर की स्थिति बनाए रखने पर फोकस होना चाहिए। उसके बजाय वह पंजाब की सुरक्षा को दांव पर लगा DGP को बेसलेस जांच में लगा रहे हैं।

कैप्टन अमरिंदर सिंह की जीवनी के साथ अरूसा आलम।
कैप्टन अमरिंदर सिंह की जीवनी के साथ अरूसा आलम।

कांग्रेस के MLA जीरा बोले- बैंक खातों की भी जांच हो
कांग्रेसी MLA कुलबीर जीरा तो रंधावा से भी एक कदम आगे बढ़ गए। उन्होंने कहा कि जब अरूसा यहां रही तो कैप्टन ने तब क्यों नहीं कहा कि पंजाब को पाकिस्तान और ISI से खतरा है। जीरा ने कहा कि यह भी जांच होनी चाहिए कि टिफिन बम आए थे या फिर इसमें अमरिंदर का कोई हाथ है। यह सब तब हुआ था, जब ज्यादातर विधायक कैप्टन के खिलाफ हो गए थे। अब रंधावा को गृह मंत्रालय मिलने के बाद कोई टिफिन बम नहीं मिला। उन्होंने कहा कि कैप्टन के खास लोगों के बैंक खातों की जांच करनी चाहिए। पता चले कि यह पैसा कहां से आया और कहां गया? इसमें ISI का क्या रोल था।

मौड़ मंडी ब्लास्ट में भी कैप्टन की घेराबंदी
डिप्टी CM सुखजिंदर रंधवा ने मौड़ मंडी ब्लास्ट में भी कैप्टन को घेरा। यह ब्लास्ट कांग्रेसी नेता हरमिंदर सिंह जस्सी की रैली में हुआ था, जिसमें 9 लोगों की मौत हुई थी। इसकी जांच हुई, लेकिन बम कांड की साजिश रचने वाले कभी सामने नहीं आए। रंधावा ने कहा कि पंजाब सरकार की तरफ से नए सिरे से इसकी जांच कराई जाएगी।

खबरें और भी हैं...