पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Jalandhar
  • Congress MLA Berry Said, Arrested The Groom And Pushed The Police, Social Disrespect To Take The Police Station From The Pavilion

जालंधर में फिर खाकी Vs खादी:कांग्रेस MLA बेरी बोले- दूल्हे को अरेस्ट कर पुलिस ने धक्का किया, मंडप से थाने ले जाकर की सामाजिक बेइज्जती

जालंधर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
MLA राजिंदर बेरी और पुलिस कमिश्नर गुरप्रीत भुल्लर। - Dainik Bhaskar
MLA राजिंदर बेरी और पुलिस कमिश्नर गुरप्रीत भुल्लर।

जालंधर में नाइट कर्फ्यू को लेकर पंजाब खादी बोर्ड डायरेक्टर और कांग्रेस नेता मेजर सिंह व थाना भार्गव कैंप के इंस्पेक्टर भगवंत भुल्लर के विवाद के बाद एक बार फिर खाकी यानी पुलिस और खादी यानी नेता आमने-सामने हो गए हैं। ताजा मामला किशनपुरा से दूल्हे को भरी बारात से अरेस्ट कर थाने ले जाने का है। जालंधर सेंट्रल से कांग्रेस विधायक राजिंदर बेरी ने इस पर कड़ा रोष व्यक्त किया है। उन्होंने दूल्हे को अरेस्ट करने को कमिश्नरेट पुलिस की धक्केशाही करार देते हुए कहा कि दूल्हे को मंडप से उठाकर ले जाना निंदनीय घटना है। उन्होंने DGP दिनकर गुप्ता और पुलिस कमिश्नर गुरप्रीत भुल्लर को ई-मेल के जरिए पत्र भेज SHO मुकेश कुमार पर कार्रवाई की मांग की है।

थाना डिवीजन 3 की पुलिस ने दूल्हा पारस को अरेस्ट कर खूब फोटो खिंचवाई थीं।
थाना डिवीजन 3 की पुलिस ने दूल्हा पारस को अरेस्ट कर खूब फोटो खिंचवाई थीं।

MLA बोले-पुलिस की कार्रवाई का तरीका गलत

MLA राजिंदर बेरी ने कहा कि ब्रह्मकुंड किशनपुरा में शादी समारोह से दूल्हे को उठाकर ले जाना सरासर गलत है। पुलिस की कार्रवाई का तरीका भी गलत है। यह परिवार गरीब तबके से संबंधित है, इस वजह से पुलिस ने उसके साथ धक्का किया। पुलिस का काम लोगों को सरकार की हिदायतों के बारे में समझाना है न कि लोगों से धक्केशाही करना। यह कार्यक्रम दूल्हे ने नहीं किया था बल्कि लड़की के परिवार ने रखा था। पुलिस परिवार के किसी मेंबर पर कार्रवाई करती न कि दूल्हे को थाने ले जाकर उसकी सामाजिक बेइज्जती करती। पुलिस बताए कि ऐसे कार्यक्रम के लिए दूल्हा किस तरह से जिम्मेदार है?। इस बारे में SHO के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए।

पुलिस अफसरों ने चुप्पी साधी, कानून की आड़ में बच रहे

दूल्हे को अरेस्ट कर मीडिया में सुर्खियां बटोरने वाली कमिश्नरेट पुलिस के अफसर अब चुप्पी साधकर बैठ गए हैं। आरोप सत्ता में बैठी कांग्रेस पार्टी के ही एक विधायक के होने की वजह से कोई खुलकर कुछ नहीं कह रहा। हालांकि 'ऑफ द रिकॉर्ड' अफसर इतना जरूर कह रहे हैं कि पंजाब सरकार के ही आदेशों को वो लागू करा रहे हैं। अगर सख्ती नहीं करेंगे तो फिर इस तरह की पाबंदियों का मतलब क्या रह जाएगा?। हालांकि MLA के आक्रामक रूख को देख अब पुलिस ने कदम पीछे खींचे हैं और सोमवार को दर्ज किए दो मामलों में परिवार के लोगों को पर ही केस दर्ज किए हैं।

खबरें और भी हैं...