दिल्ली में राहुल की पेशी, जालंधर में प्रदर्शन:कांग्रेसियों ने घेरा ED ऑफिस, टेंट लगाकर राजा वड़िंग समेत सभी धरने पर बैठे

जालंधर6 महीने पहले
जालंधर में ईडी आफिस के बाहर धरने में पहुंचे कांग्रेस के प्रदेश प्रधान अमरिंदर सिंह राजा वड़िंग।

बेशक नेशनल हेराल्ड मामले में आज राहुल गांधी की प्रवर्तन निदेशालय के समक्ष पेशी दिल्ली में है, लेकिन उसका असर आज पंजाब में भी देखने को मिल रहा है। पंजाब के कांग्रेसियों ने जालंधर में ईडी दफ्तर के बाहर धरना लगा दिया है। ईडी दफ्तर की टेंट लगाकर घेराबंदी कर दी है। पूर्व विधायकों, मंत्रियों, सांसदों समेत प्रदेश कांग्रेस के प्रधान अमरिंदर सिंह राजा वड़िंग भी धरने में शामिल हुए हैं।

धरने में आते ही राजा वड़िग ने कहा कि धक्केशाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी।उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार केंद्रीय एजेंसियों का जमकर दुरुपयोग कर रही है। उन्होंने कहा कि केंद्र की भाजपा सरकार केंद्रीय एजेंसियों का दुरुपयोग करके जो दबाब की गंदी राजनीति कर रही है उसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। केंद्र सरकार के खिलाफ डटकर मुकाबला किया जाएगा।

कांग्रेसियों का आरोप है कि मोदी सरकार केंद्रीय एजेंसियों का नाजायज फायदा उठा रही है। केंद्रीय एजेंसियां भी स्वयं अपने बूते पर काम करने की बजाय केंद्र सरकार के इशारे पर काम कर रही हैं। कांग्रेस के नेताओं पर छापामारी करवा कर और झूठे मामले बनाकर उन्हें परेशान किया जा रहा है।

कांग्रेस एक सोच है। जिसे हजारों देशभक्तों ने अपनी कुर्बानियां देकर बनाया है। मोदी जी सुन लो किसी सोच और विचार को मारा नहीं जा सकता। यदि औप एक राहुल गांधी पर अत्याचार करोगे तो हजारों राहुल गांधी पैदा हो जाएंगे। हम संघवादी सोच को हावी नहीं होने देंगे। महात्मा गांधी की सोच पर संघ की सोच को हावी नहीं होने देगे।

राजा वड़िंग ने आम आदमी पार्टी पर भी तंज कसते हुए कहा कि उन्हें उनके साथी विधायक कहते थे कि आप भाजपा की बी पार्टी है। लेकिन मैं ही विश्वास नहीं करता था। लेकिन अब तो साबित ही हो गया है। केंद्र की भाजपा सरकार ईडी, सीबीआई का दुरुपयोग कर रही है औऱ आम आदमी पार्टी पंजाब पुलिस और विजीलैंस का दुरुपयोग कर रही है। पंजाब में आम आदमी पार्टी भी उसी रास्ते पर चल रही है जिस पर केंद्र की भाजपा सरकार चल रही है।

वड़िंग की कांग्रेस की कुर्बानियों का इतिहास गिनाते हुए कहा कि सोनिया गांधी चाहती तो वह खुद प्रधानमंत्री बन जाती, अपने बेटे राहुल गांधी को प्रधानमंत्री बना देती लेकिन नहीं। यह सोनिया गांधी का त्याग है कि उन्होंने एक सरदार मनमोहन सिंह को देश का प्रधानमंत्री बनाया। उस समुदाय के व्यक्ति को प्रधानमंत्री बनाया जिनकी आवादी देश में एक प्रतिशत के करीब है।

नेशनल हेराल्ड पर बोलते हुए कहा कि इस अखबार को कांग्रेस ने आजादी से पहले 1937 में अंग्रेजों के खिलाफ शुरू किया था। इस अखबार ने कई प्रतिष्ठित पत्रकारों को पैदा किया। आजादी के बाद यह अखबार घाटे में चला गया। अखबार पर 90 करोड़ का कर्ज हो गया। कांग्रेस पार्टी ने एक नई कंपनी बनाकर नेशनल हेराल्ड का कर्ज उतारा। नब्बे करोड़ में से 67 करोड़ रुपया उन पत्रकारों को दिया जिन्हें वीआरएस दी गई। पत्रकारों को उनका हक देना क्या गुनाह है। उन्होंने कहा कि सारे कर्ज जो उतारे गए औऱ पैसे के सारे प्रयोग के सुबूत कांग्रेस पार्टी के पास हैं।

ईडी को भाजपा की चुनाव मैनेजमेंट कंपनी करार देते हुए राजा वड़िंग ने कहा कि उन्हें मालूम है कि डेढ़ साल बाद लोकसभा के चुनाव है। उससे पहले-पहले रोज कांग्रेस के नेताओं को ईडी के दफ्तरों में समन जारी कर बुलाओ उन्हें बदनाम करने की कोशिश करो ताकि भाजपा चुनाव जीत सके। उन्होंने कहा कि पिछली बार भाजपा के पास पुलवामा का मुद्दा था इस बार वह राहुल गांधी को मुद्दा बनाना चाहते हैं। लेकिन हमें अपने नेता रक फख्र है कि राहुल गांधी छाती चौड़ी करके ईडी का सामना करने गए हैं।

उन्होंने कहा कि समय आएगा इनसे पूरा हिसाब लिया जाएगा। अंग्रेजों को भी गलतफहमी थी कि वह सदा के लिए भारत पर काबिज हो गए हैं लेकिन उन्हें लोगों ने जलील करके भगाया था। उन्होंने कहा कि सरदार भगत सिंह, करतार सिंह सराभा पर भी अंग्रेजों ने एसे ही दबाब बनाया था लेकिन वह न टूटे थे और न ही झुके थे। हमें भी झुकना नहीं बल्कि लड़ना है।

हमें बड़ों-बड़ों से मिलने, होटलों में रहने वाले नहीं, लोगों में विचरने वाले नेता चाहिए

कांग्रेस में वीआईपी कल्चर के मारे निकाले गए नेताओं पर तंज कसते हुए राजा वड़िंग ने कहा कि उन्हें बड़े-बड़े लोगों से ही मिलने वाले औऱ होटलों में रहने वाले नेता नहीं चाहिए। उन्हें नेता एसे चाहिए जो लोगों के बीच विचरते हों, जो लोगों से मिलते हों। उन्होंने कहा कुछ तथाकथित रजवाड़ा शाही से ओतप्रोत लोगों ने कांग्रेस के माहौल को खराब किया था। लेकिन अब उसे जमीन पर बैठकर कांग्रेस की सोच पर पहरा देने वाले कार्यकर्ताओं के दम पर फिर से पुरानी संस्कृति को वापस लाया जाएगा। उन्होंने इस अवसर पर सरदार बेअंत सिंह समेत कई नेताओं जिन्होंने आतंकवाद के दौर में अराजक तत्वों के खिलाफ डटकर लड़ाई लड़ी का जिक्र करते हुए कहा कि दूसरी पार्टियों पर भी नजर डालो कि इनमें कोई ऐसा नेता है।

खबरें और भी हैं...