सिद्धू मूसेवाला की हत्या के बाद फूटा गुस्सा:जालंधर में सड़कों पर उतरे कांग्रेसी, सरकार के खिलाफ प्रदर्शन, जमकर नारेबाजी

जालंधर4 महीने पहले
सरकार के खिलाफ देर रात प्रदर्शन करते पूर्व विधायक सुशील रिंकू और कांग्रेस कार्यकर्ता

पंजाबी गायक एवं मानसा से कांग्रेस प्रत्याशी रहे प्रसिद्ध पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला की हत्या के बाद पंजाब में गुस्सा फूटना शुरू हो गया है। देर शाम को जालंधर में मूसेवाला की हत्या के बाद कांग्रेसी सड़कों पर उतर आए। जालंधर वेस्ट के विधायक सुशील कुमार रिंकू के नेतृत्व में कांग्रेस के कार्यकर्ताओं शहर में प्रदर्शन करते हुए पंजाब की आम आदमी सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। इसके बाद कांग्रेसियों ने बाबू जगजीवन राम चौक पर देर रात पंजाब सरकार का पुतला भू फूंका।

पुतले के पास नारेबाजी करते कांग्रेसी
पुतले के पास नारेबाजी करते कांग्रेसी

राज्य में कानून व्यवस्था के निकले दिवाले को लेकर उन्होंने पंजाब सरकार को जमकर कोसा। कांग्रेस के नेताओं ने कहा कि आम आदमी पार्टी के विधायकों और मंत्रियों ने हर तरफ गुंडागर्दी मचा रखी है। पंजाब के थानों तक में इनके इशारों के बिना केस तक रजिस्टर्ड नहीं हो रहे हैं। कानून व्यवस्था की हालत यह है कि हर रोज राज्य में हत्याएं हो रही हैं। गैंगस्टर आतंकियों का रूप धारण करके आए दिन सुपारी किलिंग कर रहे हैं।

उन्होंने पंजाब सरकार के सुरक्षा वापस लेने पर भी घेराबंदी की। उन्होंने कहा कि सुरक्षा एक गोपनीय मुद्दा है। किसी को सुरक्षा देना या वापस लेना इसे पूरी तरह से गोपनीय रखा जाता है। लेकिन पंजाब की लापरवाह सरकार ने एक तो पंजाब में चार सौ लोगों की सुरक्षा वापस ले ली और ऊपर से जिनकी सुरक्षा वापस ली उनके नाम भी सार्वजनिक कर दिए। उसी की नतीजा है कि पिछले कल सिद्धू मूसेवाला की सुरक्षा वापस ली गई और आज उनकी दिन दहाडे हत्या कर दी गई।

सुशील रिंकू ने कहा कि पंजाब सरकार पूरी तरह से फेल हो चुकी है। राज्य में कानून व्यवस्था नाम की कोई चीज नहीं है। हर तरफ अराजकता फैली हुई है। उन्होंने पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान जिनके पास गृह मंत्रालय भी है से कहा कि वह इस हत्याकांड पर नैतिकता के आधार पर अपने दोनों पदों से तुरंत प्रभाव से त्यागपत्र दे दें।