डेविएट के छात्र कृष्ण की मौत का मामला:कांस्टेबल पिता बोले - सोचा था बेटा इंजीनियर बन लौटेगा, इसके शव को घर कैसे लेकर जाऊं

जालंधर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बेबस पिता ने शव को घर ले जाने की बजाय जालंधर में संस्कार किया। - Dainik Bhaskar
बेबस पिता ने शव को घर ले जाने की बजाय जालंधर में संस्कार किया।

सिविल अस्पताल के शव गृह में मंगलवार दोपहर 21 साल के बड़े बेटे कृष्ण कुमार यादव की लाश देख बिहार से आए सूर्या नारायण यादव की आंखें भर आईं। मधुबनी से आए रिश्तेदार यादव को दिलासा दे रहे हैं। मगर बेटे की नौकरी और शादी का सपना देखने वाले पिता की हिम्मत टूट चुकी थी। उन्होंने सोचा था कि फाइनल ईयर कर इंजीनियर बन घर लौट आएगा। सपने में भी नहीं सोचा था कि ऐसा दिन देखने को मिलेगा। रिश्तेदार पिता को शवगृह से बाहर लेकर आ गए।

पुलिस ने सूर्या नारायण को क्राइम सीन से लेकर जांच से जुड़ी हर बात बताई। सीसीटीवी कैमरे की फुटेज भी दिखाई, ताकि बेटे की मौत को लेकर मन में सवाल न रहे। सूर्या नारायण बिहार पुलिस में कांस्टेबल है। उनके 3 बेटे और एक बेटी है। एसएचओ सुरजीत सिंह गिल का कहना है कि अभी अमन की हालत नाजुक बनी है।

केमिकल जांच के लिए विसरा भेजा जाएगा लैब

पुलिस ने डॉक्टरों के पैनल से शव का पोस्टमार्टम करवाया। इस दौरान यह बात सामने आई कि दूसरी मंजिल से गिरने के कारण अंदर से सिर बुरी तरह से डैमेज हो चुका था। इसी कारण कृष्ण की पलभर में मौत हो गई। शरीर की हड्डियां टूट चुकी थी। कृष्ण का विसरा केमिकल जांच के लिए लेब में भेजा जाएगा। शव को फैमिली के हवाले कर दिया है। मकसूदां स्थित श्मशानघाट में शाम को अंतिम संस्कार कर दिया गया।

दूसरे छात्र अमन का निजी अस्पताल में चल रहा इलाज

कबीर नगर स्थित डेविएट के बीसीए फाइनल ईयर के 2 छात्र विवाद के दौरान यूके होस्टल की दूसरी मंजिल से गिर गए। मधुबनी (बिहार) के वासी कृष्ण कुमार यादव (21) की मौत हो गई थी। दूसरा छात्र अमन कुमार वासी दानापुर दलदली रोड आदर्श गली, पटना जख्मी हो गया। उसका ट्रीटमेंट चल रहा है। जांच में यह बात आई थी कि कृष्ण के रूममेट सोहन ने 8 जून को जन्मदिन की पार्टी में अमन को नहीं बुलाया था। अमन ने सोहन के सोशल मीडिया ग्रुप में मैसेज डाला था। विवाद में बीच बचाव करने गए कृष्ण की अमन से हाथापाई हो गई। दोनों दूसरी मंजिल से नीचे गिर गए।

खबरें और भी हैं...