पंजाब में 2 हजार सरकारी बसों का चक्काजाम:रेगुलर न करने से नाराज कॉन्ट्रैक्ट पर रखे 8 हजार ड्राइवर-कंडक्टर गए बेमियादी हड़ताल पर; प्राइवेट बसें ही चलेंगी, कल सिसवां फार्म हाउस में CM के घेराव का ऐलान

जालंधरएक महीने पहले
जालंधर के बस स्टैंड में प्राइवेट बसों में जाने को मजबूर सवारियां।

जालंधर में सरकारी बसों की आवाजाही ठप कर दी गई है। सोमवार से पंजाब रोडवेज, पनबस व पीआरटीसी के कॉन्ट्रैक्ट पर रखे गए ड्राइवर हड़ताल पर चले गए हैं। इस वजह से पूरे पंजाब में करीब 2 हजार बसों की आवाजाही बंद रहेगी। यह हड़ताल अनिश्चितकालीन रहेगी। सभी कच्चे कर्मचारी सरकार से उन्हें रेगुलर करने की मांग कर रहे हैं। उन्होंने पहले भी कई बार 2 घंटे या पूरा दिन बस स्टैंड बंद रखकर प्रदर्शन किया था। इसके बावजूद कोई बात नहीं बनी।

ट्रांसपोर्ट मंत्री रजिया सुल्ताना के साथ भी उनकी बैठक हुई, लेकिन रेगुलर करने पर कोई फैसला नहीं हुआ। जिन सवारियों को जरूरी कहीं बस से जाना है, वे प्राइवेट बस के जरिए जा सकते हैं। इसके अलावा रेगुलर कर्मचारियों वाली कुछ सरकारी बसें भी चलेंगी। कर्मचारियों ने ऐलान कर दिया है कि आज की हड़ताल के बाद कल वो सिसवां फार्म हाउस जाकर मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह का घेराव करेंगे।

पंजाब रोडवेज वर्कशॉप के गेट पर प्रदर्शन करते कर्मचारी।
पंजाब रोडवेज वर्कशॉप के गेट पर प्रदर्शन करते कर्मचारी।

लंबे रूट की बसें रोकी गई, कई का रूट छोटा करके वापस बुलाया

कॉन्ट्रैक्ट कर्मचारियों की हड़ताल को देखते हुए लंबे रूट की सभी बसें रोक दी गई हैं। जालंधर बस स्टैंड से दिल्ली, राजस्थान, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश व उत्तराखंड के लिए रूट चलते हैं। लेकिन इन्हें चंडीगढ़ व अंबाला तक ही चलाकर बसें वापस बुलाकर जालंधर डिपो में खड़ी कर दी गई हैं।

पंजाब रोडवेज की कोई बस न निकले, इसलिए वर्कशॉप के आगे बस खड़ी कर बंद किया गेट
पंजाब रोडवेज की कोई बस न निकले, इसलिए वर्कशॉप के आगे बस खड़ी कर बंद किया गेट

कॉन्ट्रैक्ट कर्मियों के सहारे सरकारी बसें

पंजाब में सरकारी बसें कॉन्ट्रैक्ट कर्मियों के सहारे ही चल रही हैं। ट्रांसपोर्ट विभाग के पास पीआरटीसी की करीब 1100, पंजाब रोडवेज की 450 और पनबस की करीब 1200 बसें हैं। इनमें गिनती के ही सरकारी कर्मचारी हैं। बाकी सभी कॉन्ट्रैक्ट पर रखे ड्राइवर व कंडक्टर हैं। पनबस व पीआरटीसी में ज्यादातर बसें कॉन्ट्रैक्ट कर्मचारियों से चलवाई जा रही हैं। पंजाब में रोडवेज के 18 व पीआरटीसी के 9 डिपो के कॉन्ट्रैक्ट कर्मचारी हड़ताल में शामिल हैं।

कर्मचारियों की हड़ताल की वजह वर्कशॉप के भीतर खड़ी सरकारी बसें।
कर्मचारियों की हड़ताल की वजह वर्कशॉप के भीतर खड़ी सरकारी बसें।

कच्चे कर्मी पक्के कर 10 हजार बसों का नया फ्लीट लाए सरकार : यूनियन

कॉन्ट्रैक्ट वर्कर्स यूनियन के प्रधान गुरप्रीत सिंह ने कहा कि सरकार को कच्चे कर्मचारी जल्दी पक्के करने होंगे। इसके अलावा छिटपुट केसों में बर्खास्त किए कर्मचारियों को बहाल करना होगा। वह लगातार मांग कर रहे हैं कि पंजाब सरकार 10 हजार बसों का नया फ्लीट लाए, ताकि महिलाओं को मुफ्त सफर समेत पूरे राज्य में लोगों को आसानी से बस सुविधा मिले। सरकारी बसें न होने से प्राइवेट बसें बढ़ रही हैं। सरकार नई बसें न लाकर खुद ही इन्हें बढ़ावा दे रही है। जब तक मांगें नहीं मानी जाती, हड़ताल जारी रहेगी।

खबरें और भी हैं...