पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Jalandhar
  • Corona Patient Wandering At Bus Stand In Jalandhar, Passenger Going To Uttar Pradesh Came Positive For The Second Time In Two Days

ऐसे तो फैलेगा ही संक्रमण:जालंधर में बस स्टैंड पर घूमता रहा कोरोना मरीज, उत्तर प्रदेश जा रहा यात्री दो दिन में दूसरी बार आया पॉजिटिव

जालंधर5 महीने पहले
कोरोना पॉजिटिव आए यात्री को बस से नीचे उतारती सवारियां।

एक तरफ जालंधर में कोरोना संक्रमण रिकॉर्ड तोड़ रहा है तो दूसरी तरफ घोर लापरवाही बरती जा रही है। ऐसा ही मामला बस स्टैंड में देखने को मिला। जहां हिमाचल से उत्तर प्रदेश जाने के लिए पहुंचा यात्री कोरोना पॉजिटिव होने के बाद भी दो दिन से बस स्टैंड पर घूमता रहा। इसका पता तब चला, जब बस स्टैंड पर लगातार दो दिन वह पॉजिटिव आता रहा। इसके बाद उसका इलाज कराने या अस्पताल भेजने के बजाय घर लौटा दिया गया। हालांकि वो कहां गया, इसके बारे में किसी को भी पता नहीं।

बस स्टैंड पर घूम रहा मरीज
बस स्टैंड पर घूम रहा मरीज

हिमाचल प्रदेश के ऊना के धारीवाल से UP लौट रहे रोहित बस से यहां जालंधर बस स्टैंड पहुंचा। यहां से जब वो बस में सवार हुआ तो उसका कोरोना का एंटीजन टेस्ट हुआ। इसमें वो पॉजिटिव आया तो पहले दिन उसे उतार दिया गया। दूसरे दिन फिर उसने 800 रुपए में बस की टिकट ली और बैठ गया। फिर उसका टेस्ट हुआ तो वो पॉजिटिव आ गया। इसका पता चलते ही सवारियों ने हंगामा कर दिया और उसे बस से नीचे उतार दिया।

मरीज के बारे में बताते टैक्सी यूनियन के प्रधान गुरमीत औलख।
मरीज के बारे में बताते टैक्सी यूनियन के प्रधान गुरमीत औलख।

टेस्ट के बाद मरीज का क्या करना?, किसी को नहीं पता

कोरोना के लगातार बढ़ते संक्रमण को देख जिले में पुलिस व सेहत विभाग की टीमें बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन से लेकर चौराहों पर लोगों का कोरोना टेस्ट कर रही हैं। यहां अगर कोई पॉजिटिव आ जाता है तो यह नहीं पता कि उन लोगों का क्या करना है?। खासकर, यात्रियों के मामले में हालात खतरनाक हैं। बस से जा रहे यात्री रोहित के साथ भी यही हुआ। डॉक्टरों ने पॉजिटिव आने पर उसे बस से तो उतार दिया लेकिन उसे क्या करना है? इसके बारे में कुछ नहीं बताया। डॉ. हरमीत सिंह ने कहा कि ऐसे हालात में मरीज को होम क्वारंटाइन होना चाहिए। उसे इसके बारे में बता सकते हैं लेकिन किसी को मजबूर नहीं कर सकते।

जिले के हालात देखिए..40 हजार से ज्यादा मरीज, 1048 तोड़ चुके दम

कोरोना को लेकर यह लापरवाही तब बरती जा रही है जबकि जिले में कोरोना के कन्फर्म मरीजों का आंकड़ा 40 हजार पार कर चुका है। रविवार को ही रिकॉर्डतोड़ 648 मरीज अकेले जालंधर जिले के रहने वाले मिले। वहीं, 1048 मरीज कोरोना की वजह से दम तोड़ चुके हैं। इतने चिंताजनक हालात हो चुके हैं कि अब ऑक्सीजन व अस्पतालों में बैड की कमी का खतरा मंडराने लगा है। इसके बावजूद संक्रमण रोकने को लेकर अफसरों की कारगुजारी पर सवाल उठ रहे हैं।