• Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Jalandhar
  • DC Again Tightens The Noose On Thug Travel Agents, Said People Should Give Shop And House On Rent Only To Authorized Agent

जालंधर में अब ठग नहीं पाएंगे एजेंट:DC की दुकान-मकान मालिकों को हिदायत; अनाधिकृत फर्माें को किराए पर भवन दिए तो होगी कार्रवाई

जालंधर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
डीसी घनश्याम थोरी, जिन्होंने ट्रैवल एजेंटों के खिलाफ कार्रवाई के आदेश जारी किए हैं। - Dainik Bhaskar
डीसी घनश्याम थोरी, जिन्होंने ट्रैवल एजेंटों के खिलाफ कार्रवाई के आदेश जारी किए हैं।

विदेश भेजने के नाम पर ठगी के अड्डे पंजाब के हर शहर में मौजूद हैं। लोगों को पता भी है कि यह बड़ी-बड़ी दुकानें खोलकर बैठे लोग सिवाय ठगी के और कुछ नहीं करते, लेकिन फिर भी इनके मायाजाल में फंस जाते हैं और मेहनत से कमाए हुए लाखों रुपए गंवा देते हैं।

पुलिस को भी इन ठगों के बारे में पूरी जानकारी है। उनके पास लोगों की शिकायतें भी आती हैं, केस भी दर्ज होते हैं, लेकिन फिर भी यह बिना किसी डर के धड़ल्ले से अपनी ठगी की दुकानदारी चलाए हुए हैं। अब जालंधर शहर में ठगों की दुकानों के शटर बंद होने का समय आ गया है।

पिछले दिनों ठग ट्रैवल एजेंटों के लाइसेंस रद करने के बाद अब डिप्टी कमिश्नर घनश्याम थोरी ने एक और बड़ा कदम ठग एजेंटों पर नकेल डालने के लिए उठाया है। उन्होंने सिर्फ जालंधर शहर ही नहीं, बल्कि पूरे जिले के दुकान और मकान मालिकों के लिए एक बेहद सख्त हिदायत जारी की है।

आदेशों के अनुसार, लोग अपने कमर्शियल या फिर नॉन-कमर्शियल परिसर किराए पर उन्हीं एजेंटों को दें, जो अधिकृत हैं। जिन्हें सरकार ने कंसल्टेंसी के लिए लाइसेंस जारी कर रखा है। जिन्होंने अपने भवन ट्रैवल एजेंटों को विदेश भेजने का धंधा करने के लिए दिए हैं, उनके लाइसेंस जरूर चैक करें।

डिप्टी कमिश्नर ने अपनी शक्तियों का उपयोग करते हुए अनाधिकृत एजेंटों को परिसर किराए पर देने की रोक लगा दी है। विवाद होने पर या फिर शिकायत मिलने पर यदि किसी के भवन में बिना लाइसेंस के एजेंट अपनी दुकानदारी चलाता हुआ पकड़ा गया तो जगह के मालिक के खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी।

डिप्टी कमिश्नर ने कहा कि यह कदम इसलिए उठाया गया है, क्योंकि पिछले दिनों उनके ध्यान में आया है कि बहुत सारे ट्रैवल एजेंट किराए पर घर या दुकान लेकर लोगों के साथ लाखों रुपए की ठगी करते हैं औऱ फिर दुकान मकान को ताला लगाकर भाग जाते हैं। लोग दुकान या मकान मालिक से पूछते हैं तो उन्हें कोई जानकारी नहीं होती।