पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

21 दिन से किसान ट्रैक पर, ट्रेनें बंद:यूपी-बिहार ले जाने को बिना परमिशन जालंधर में दाखिल हो रहीं डबल डेकर बसें, 40 की बजाय 70 सवारियां बैठा रहीं

जालंधर5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बस स्टैंड फ्लाईओवर के नीचे ट्रैफिक पुलिस के पास खड़ी डबल डेकर बस।- भास्कर
  • पुलिस की मौजूदगी में चल रहा अवैध तौर पर सवारियां उठाने का दौर
  • 1000 से 2500 रुपए प्रति सवारी किराया

(सुरिंदर सिंह) किसान आंदोलन के कारण 21 दिनों से ट्रेनें बंद हैं। अब त्यौहार नजदीक आ गए हैं तो दूसरे राज्यों से आए श्रमिकों को घर वापसी की चिंता सताने लगी है। ऐसे में उनके पास दूसरे राज्यों से आने वाली डबल डेकर बसें ही सहारा हैं। चाहे ट्रेन में उनको मंजिल तक पहुंचने के लिए 250 से 300 रुपए खर्च करने पड़ रहे हैं लेकिन वे त्यौहार अपने घर जाकर ही मनाना चाहते हैं। श्रमिकों की इस मजबूरी का फायदा डबल डेकर बस ऑपरेटर खूब उठा रहे हैं।

इस दौरान अगर सवारी के जानमाल का कोई नुकसान हो तो किसी की कोई जिम्मेदारी भी नहीं। हालांकि डबल डेकर बसों के जालंधर में प्रवेश की इजाजत ही नहीं है, लेकिन ऊपर तक सांठगांठ के चलते आसानी से बसें सिटी में आ जाती हैं और पुलिस मुलाजिमों के सामने ही नाजायज तौर पर सवारियां चढ़ाकर ले जाती हैं। हैरान करने वाली बात तो यह भी है कि इन बसों में 70 तक श्रमिक बिठाए जा रहे हैं, जोकि कोविड-19 की हिदायतों का पूरी तरह उल्लंघन है।

इस बारे जब बस ऑपरेटर से बात की तो बोला, ‘वीर जी साडे कोल परमिशन है। किसे नूं रस्ते विच नहीं लाईदा, साडा रोज दा आणा-जाणा, चार सालां तों एही कम्म करदे पए हां। जित्थे कहोगे, ओत्थे ही ला देआंगे पर अलग-अलग जगह दा किराया वी अलग-अलग है।’

10 लोगों ने 22 हजार रुपए देकर गोरखपुर जाने के लिए बस बुक की

यूपी और बिहार जाने के लिए डबल डेकर बसों ने किराये की दर कम से कम 1000 रुपए है। इस बारे श्रमिकों से बात की तो उन्होंने कहा कि ट्रेनें चल नहीं रही हैं। अगर अपने गांव ट्रेन से जाना पड़े तो पहले अंबाला तक किराया खर्च करना होगा, फिर आगे की ट्रेन पकड़नी होगी। उन्हें किसी ने बताया कि फोकल पाॅइंट से सीधी बस चलती है तो वहां जाकर 2200 रुपए में गोरखपुर तक का किराया तय किया है। उनके ग्रुप में 10 लोग हैं, कुल 22000 रुपए में सभी दोस्तों ने इकट्ठे जाना मुनासिब समझा।

नाके पर भी नहीं रोकी जातीं बसें

रामा मंडी, पीएपी चौक के पास भूर मंडी के पास सूर्या एंक्लेव, फोकल पॉइंट, गढ़ा रोड से हर रोज डबल डेकर बसें मजदूरों से भरकर आ और जा रही हैं। इन पॉइंट के पास तकरीबन पुलिस का नाका भी रहता है। 70 से अधिक सवारियां बसों में बिठाई जा रही हैं और किसी तरह की सोशल डिस्टेंसिंग का पालन तक नहीं किया जा रहा है। बस चालक भी बिना किसी डर और झिझक के बसों को शहर में लाते हैं।

बाहर से आने वालों की कोई चेकिंग नहीं

बसों में भरकर आ रहे श्रमिकों के बारे में भी जालंधर में कोई पूछताछ नहीं की जा रही है। किसी भी नाके पर बसों के अंदर जांच तक नहीं होती है कि कौन क्या ला रहा है और कौन क्या लेकर जा रहा है। एक बार बस की डिग्गी में सामान रख दिया तो वहां जाकर ही खोली जाती है। जहां पर सवारी ने उतरना है। प्रशासन भी इस बात को गंभीरता से नहीं ले रहा है। अगर इन बसों में अपराधी या विस्फोटक पदार्थ आ जाएं तो सभी के हाथ पैर फूल जाएंगे क्योंकि कंडक्टर व बस चालक भी इस बात का ध्यान नहीं रखते कि किसने क्या रखा है।

रोज हो रही कार्रवाई, चेकिंग बढ़ाई जाएगी

एडीसीपी गगनेश कुमार ने बताया कि उन्होंने कुछ दिन पहले गढ़ा रोड पर खड़ी डबल डेकर बसों को वहां से हटवाया और चालान भी किए हैं। इंस्पेक्टर रमेश कुमार की ड्यूटी लगा दी गई है। किसी भी हालत में ऐसी बसों को आपरेट करने वालों को बख्शा नहीं जाएगा। जिस बस में तय सीमा से अधिक सवारियां भरी होंगी, उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

उधर, सेक्रेटरी आरटीए को शिकायत का इंतजार

सेक्रेटरी आरटीए बरजिंदर सिंह से बात की तो उन्होंने बताया कि लॉकडाउन के दौरान ऐसी कोई शिकायत उन्हें नहीं मिली है कि डबल डेकर बसें शहर में चल रही हैं। अगर ऐसी कोई शिकायत लेकर उनके पास आएगा तो वह इसकी जांच करवाएंगे।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज ग्रह स्थितियां बेहतरीन बनी हुई है। मानसिक शांति रहेगी। आप अपने आत्मविश्वास और मनोबल के सहारे किसी विशेष लक्ष्य को प्राप्त करने में समर्थ रहेंगे। किसी प्रभावशाली व्यक्ति से मुलाकात भी आपकी ...

और पढ़ें