धूल भरी हवाओं के बीच बूंदाबांदी:लोगों को गर्मी से मिली राहत, लेकिन खड़ी फसल को लेकर किसानों की चिंता बढ़ी

जालंधर7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जालंधर में धूलभरी आंधी के बीच बूंदाबांदी - Dainik Bhaskar
जालंधर में धूलभरी आंधी के बीच बूंदाबांदी

पंजाब के जालंधर जिले में जैसा पूर्वानुमान था, वैसे ही हुआ। सुबह-सुबह आसमान में बादल छा गए। धूल भरी हवाएं चलने लगीं। इन्हीं हवाओं को बीच छिटपुट बूंदाबांदी ने मौसम को और खुशगवार बना दिया, लेकिन हवाओं के साथ बूंदाबांदी ने किसानों की चिंता बढ़ा दी है। क्योंकि अभी कई क्षेत्रों में कटाई का काम बचा हुआ है।

आसमान में बादल छाने और बूंदाबांदी के कारण पिछले करीब एक हफ्ते से पारा लगातार ऊपर चढ़ रहा है। बुधवार को पिछले हफ्ते की अपेक्षा गर्मी चरम पर थी। दोपहर को ही पारा 39 डिग्री पर पहुंच गया था औऱ शाम से पहले यह 41 डिग्री पर था, लेकिन रात जैसे-जैसे गहराती गई पारा भी लुढकता गया। तड़के यह 27 डिग्री पर पहुंच गया।

आज सुबह से ही आसमान में बादल छाए रहने से पारा पिछले कल की अपेक्षा करीब 6 डिग्री लुढ़का है। आज तापमान 33 डिग्री सेल्सियस है। दिनभर आसमान में बादल छाए रहेंगे। मौसम खराब रहने के कारण हवाएं भी चलेंगी। आज करीब 13 किलोमीटर प्रतिघंटा से लेकर 17 किलोमीटर प्रतिघंटा का रफ्तार से हवाएं चलेंगी।

दो-तीन दिन से जो गर्म हवाएं (लू) चल रही थीं, उससे भी आज लोगों को राहत मिलेगी। तेज हवाएं चलने के कारण खेतों में तैयार खड़ी गेहूं की फसल को नुकसान हो सकता है। हवाओं के कारण सूखी गेहूं खेतों में बिछ सकती है। इससे गेहूं के दानों को भी नुकसान पहुंच सकता है। यदि बीच में कहीं बारिश हो गई तो दाना काला पड़ सकता है।

दाना काला पड़ने से किसानों को नुकसान उठाना पड़ सकता है। मंडियों में प्रशासन ने आई हुई फसल को बारिश से बचाने के लिए पहले ही पूरे प्रबंध कर रखे हैं। प्रशासन ने पहले ही मंडियों में तिरपाल दे रखी हैं, ताकि यदि बारिश होती है तो गेहूं को ढका जा सके।