पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Jalandhar
  • E mail ID Is An Excuse For Being Hacked; Mumbai Company Cheated 8.85 Lakhs From Factory Owner Of Mill Jalandhar With Friend

धोखे की 'डील':ई-मेल ID हैक होने का बहाना बना जालंधर के फैक्ट्री मालिक से 8.85 लाख ठगे, मुंबई के कारोबारी ने दोस्त के साथ मिलकर की ठगी

जालंधर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पुलिस ने विन्को ऑटो इंडस्ट्रीज मालिक से ठगी का केस दर्ज कर आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए कार्रवाई शुरू कर दी है। - Dainik Bhaskar
पुलिस ने विन्को ऑटो इंडस्ट्रीज मालिक से ठगी का केस दर्ज कर आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए कार्रवाई शुरू कर दी है।

ई-मेल आईडी हैक होने का बहाना बनाकर मुंबई की कंपनी के मालिक ने अपने रांची झारखंड के दोस्त के साथ मिलकर जालंधर के फैक्ट्री मालिक से 8.85 लाख रुपए ठग लिए। असल में जालंधर के फैक्ट्री मालिक ने मुंबई की कंपनी से कुछ सामान लेना था, जिसके लिए एडवांस पेमेंट देनी थी। हालांकि मुंबई की कंपनी वाले ने अपनी मेल से ही अपने दोस्त से गलत अकाउंट नंबर भिजवाकर यह ठगी की। साइबर सैल की जांच में आरोप सही पाए जाने पर दोनों के खिलाफ ठगी व IT एक्ट का केस दर्ज कर लिया गया है।

डील होने के बाद मांगी एडवांस पेमेंट

CID ऑफिस के नजदीक लाडोवाली रोड स्थित मास्टर तारा सिंह नगर में रहने वाले विनय गुप्ता ने बताया कि उनकी राउवाली धोगड़ी रोड पर विनको ऑटो इंडस्ट्री है। उन्हें फैक्ट्री के लिए कुछ सामान की जरूरत थी। इसके लिए उन्होंने मुंबई की कमला हब गुलमोहर क्रॉस रोड 7 स्थित इलेस्टोकेमी इंपेक्स इंडिया लिमिटेड से डील की। उन्हें सामान के बदले कंपनी ने उनसे 8.85 लाख की एडवांस पेमेंट मांगी।

3 घंटे में दो बार आए अकाउंट डिटेल्स

इसके लिए कंपनी ने उन्हें अपनी ई-मेल आइडी से RTGS के जरिए 8.85 लाख की पेमेंट के लिए अकाउंट डिटेल्स भेजी। जो कोटक महिंद्रा बैंक के शांताक्रूज स्थित ब्रांच की जानकारी थी। इससे पहले कि वो उसमें पेमेंट ट्रांसफर करते, 3 घंटे बाद उन्हें फिर उसी मेल से नई अकाउंट डिटेल्स मिली। उन्हें नई मेल में भेजे अकाउंट में पैसे ट्रांसफर करने को कहा गया। उन्होंने उस अकाउंट में 8.85 लाख रुपए ट्रांसफर कर दिए। यह बैंक खाता फेडरल बैंक ऑफ इंडिया का रांची ब्रांच का था।

पेमेंट ट्रांसफर के बाद बोले, हमें नहीं मिले

जब उन्होंने पेमेंट कर दी तो मुंबई की कंपनी ने उन्हें बताया कि उनके पास तो पेमेंट नहीं पहुंची। उन्होंने दोबारा मेल भेजने की जानकारी दी तो मुंबई की कंपनी ने कहा कि उनकी ई-मेल आइडी हैक कर ली गई थी। जिस वजह से उन्हें गलत जानकारी भेजकर पैसे मंगवाए गए।

जांच में मालिक ही निकला कारोबार का धोखेबाज

पुलिस के साइबर सैल ने इसकी जांच की तो पता चला कि जिस अकाउंट में पेमेंट गई, वह झारखंड रांची के गोपाल गंज लेन अपर बाजार के लालदेव केवट के नाम पर है। पुलिस जांच में यह भी स्पष्ट हुआ कि जालंधर के फैक्ट्री मालिक से मुंबई की इलेक्ट्रोकेमी कंपनी मिहिका संपत ने ही लालदेव के साथ मिलकर यह ठगी की है।